सैफुल्लाह का एनकांउटर फर्जी है, आतंकी सैफुल्लाह नहीं, आतंकी सरकार है- मौलाना आमिर रशादी

Mar 11, 2017
सैफुल्लाह का एनकांउटर फर्जी है, आतंकी सैफुल्लाह नहीं, आतंकी सरकार है- मौलाना आमिर रशादी

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हाल ही में संदिग्ध आतंकवादी सैफुल्लाह के एटीएस से हुई मुठभेड़ मारे जाने पर उलेमा काउंसिल ने सवाल खड़े किए। सैफुल्लाह की मौत पर उसके पिता सरताज और भाई दानिश तो सवाल नहीं उठा रहे हैं, लेकिन उलेमा काउंसिल ने मुठभेड़ को फर्जी करार दिया।

उलेमा काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना आमिर रशादी मदनी कानपुर पहुंचे। उन्होंने कहा, “सैफुल्लाह का एनकांउटर फर्जी है। आतंकी सैफुल्लाह नहीं, आतंकी सरकार है। पुलिस वालों ने सैफुल्लाह को घर के अंदर बंधक बना रखा था।”

मौलाना मदनी शुक्रवार को सैफुल्लाह और आतिफ के घर पहुंचे और उनके परिजनों से अलग-अलग बातचीत की। वह इमरान के घर पर भी गए, लेकिन वहां ताला लगा था।

ये भी पढ़ें :-  नौकरी के बहाने दिल्ली ले गया प्रेमी, अश्लील फोटो खींच दी धमकी, कहा-'तू किसी और की हुई तो सब मरेंगे'

इन मुलाकातों के बाद मौलाना मदनी ने मीडिया से कहा कि सैफुउल्लाह को फर्जी मुठभेड़ में मारा गया है। वह आतंकी नहीं था।

उन्होंने कहा, “फर्जी एनकाउंटर का मास्टरमाइंड एडीजी हैं, जो हिंदू और मुसलमानों के बीच नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। वह आरएसएस और भाजपा के लिए काम कर रहे हैं।”

मदनी ने कहा, “पूरे मामले में पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) जावीद अहमद का कोई बयान नहीं आना अपने आप में सवाल खड़ा कर रहा है।”

उन्होंने मांग की कि इस मुठभेड़ की सच्चाई सामने लाने के लिए मुठभेड़ के समय मौजूद पुलिसकर्मियों और एटीएस कर्मियों का नार्को टेस्ट कराया जाए।

ये भी पढ़ें :-  भूत-प्रेत उतारने के बहाने तांत्रिक ने महिला से किया बलत्कार, पीड़िता ने सीएम से लगाई न्याय की गुहार

इससे पहले, रिहाई मंच भी मुठभेड़ पर सवाल उठा चुका है। उसने इस मामले की न्यायिक जांच की मांग की है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>