कांग्रेस से मुक्त पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी बोले, अब में आजाद हूं

Jun 07, 2016

बिलासपुर- पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने सोमवार को मरवाही विधानसभा क्षेत्र के ग्राम कोटमी में सारे अटकलों को दरकिनार करते हुए आखिरकार नई पार्टी बनाने का ऐलान कर दिया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि अब मैं आजाद हूं,किसी की जिल्लत सहनी नहीं पड़ेगी। बात-बात पर दिल्ली की ओर मुंह ताकना नहीं पड़ेगा। छत्तीसगढ़ के सारे फैसले अब यहीं लिए जाएंगे। उनकी पार्टी भूख, गरीबी और बेरोजगारी से संघर्ष कर छत्तीसगढ़ को टैक्स फ्री राज्य बनाने की दिशा में गंभीरता के साथ प्रयास करेगी । संबोधन के दौरान भारी बारिश के बाद भी हजारों की संख्या में समर्थक कार्यक्रम स्थल पर जमे रहे। पूर्व मुख्यमंत्री ने हजारों की संख्या में मौजूद समर्थक कार्यकर्ताओं से मुखातिब होते हुए कहा कि मरवाही की परंपरा के अनुसार वे अपने बुजुर्गों व समर्थकों से अपनी बात रखने से पहले अनुमति लेना चाहते हैं। उनका इतना कहना था कि लोगों ने अपने दोनों हाथ उठाकर उन्हें अपनी बात रखने की सहमति दी। उन्होंने कहा कि मरवाही की माटी और यहां के लोगों ने जो स्नेह मुझे दिया है उसका कर्ज मैं कभी नहीं उतार सकता। अब समय आ गया है कि छत्तीसगढ़ के दो करोड़ से अधिक लोगों की अस्मिता और सम्मान की रक्षा के लिए मतभेद भुलाकर हम सब एक हो जाएं। छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ियों के सम्मान और स्वाभिमान के लिए अब आगे की लड़ाई लड़ी जाएगी। भाजपा और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में जब से भाजपा की सरकार बनी है लूट मची हुई है। अब यह बर्दाश्त नहीं करेंगे। प्रदेश के खनिज संपदा सहित भूगर्भीय संसाधनों पर बाहरी लोगों ने कब्जा कर लिया है। अब ऐसा नहीं चलेगा। छत्तीसगढ़ के संसाधनों पर छत्तीसगढ़ियों का कब्जा होगा। पढ़े लिखे बेरोजगारों के साथ ही यहां रहने वालों को संसाधनों का दोहन करने भरपूर अवसर दिया जाएगा । औद्योगिक निवेश के मुद्दे पर राज्य शासन को आड़ेहाथों लेते हुए कहा कि उद्योग लगाने और निवेश के नाम पर राज्य शासन द्वारा करोड़ों का फर्जीवाड़ा किया जा रहा है। बैंकों से कर्ज लेकर बाहरी लोग उद्योग धंधे संचालित कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ियों की गाढ़ी कमाई का एक बड़ा हिस्सा बाहर के प्रदेशों में भेजा जा रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि किसानों को 300 रुपए प्रति क्विंटल बोनस और 2100 रुपए समर्थन मूल्य देने की घोषणा कर मुकरने वाले सरकार के मुखिया अपनी काली कमाई का बड़ा हिस्सा स्विस बैंक में जमा करा रहे हैं और किसानों के साथ धोखा किया जा रहा है। लोगों को अगाह करते हुए कहा कि झूठी सरकार से सावधान रहने की जरूरत है। चुनाव के पहले बहलाने फुसलाने की कोशिश होगी। तब समर्थन मूल्य के साथ ही बोनस भी देने का प्रपंच किया जाएगा। इससे हमें सावधान रहने की जरूरत है। ऐसी निक्कमी और वादा खिलाफी करने वाली सरकार को उखाड़ फेंकना होगा। इसीलिए क्षेत्रीय पार्टी का गठन किया जा रहा है। जिसके फैसले बंद कमरे में किसी एक व्यक्ति विशेष के जरिए नहीं वरन हम सब मिल बैठकर सामूहिक फैसला करेंगे। कोटमी की सभा में मौजूद समर्थकों के बीच कहा कि राजधानी रायपुर में जब क्षेत्रीय पार्टी राज करेगी सब ठीक हो जाएगा। उन्होंने दोटूक कहा कि छत्तीसगढ़वासियों के हक की लड़ाई लड़ी जाएगी। मरवाही की जनता के आशीर्वाद से विरोधी ताकतों से मुकाबला करेंगे। कार्यक्रम में उमड़ी भीड़ उनके परिवार के प्रति लोगों के दिलों में बसे प्रेम का उदाहरण है। इस आयोजन को लेकर मरवाही विधानसभा क्षेत्र के कोटमीकला में आज राजनीतिक सरगर्मी तेज रही। श्री जोगी की बहू रिचा जोगी के सभास्थल पहुंचने पर समर्थकों में गर्मजोशी से उनका स्वागत किया। पूर्व मुख्यमंत्री श्री जोगी ने कहा कि मरवाही के कोटमी में होने वाली सभा के लिए रवाना होने से पहले मेरी पत्नी डॉ. जोगी ने मुझे तिलक लगाए व अकबर की जोधा की तरह तलवार भेंट की । उन्होंने मुझे साहस दिलाया है कि मैं नई पार्टी बनाकर रमन मुक्त छत्तीसगढ़ बना सकूं। कार्यक्रम प्रारंभ होने से तकरीबन आधा घंटे पहले अमित जोगी की पत्नी श्रीमती रिचा जोगी महिलाओं के साथ कार्यक्रम स्थल पहुंची और उनके बीच बैठी रहीं। वे पूरे समय पंडाल में ही नजर आईं। श्री जोगी के भाषण के दौरान जमकर बारिश भी हुई। इसके बाद भी लोग सभा स्थल में डंटे रहे । श्रीमती जोगी भी बरसते पानी में भिगते उनके बीच ही बैठी रहीं । कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अमित जोगी ने कहा कि आज की महत्वपूर्ण सभा में मैं उन लोगों को विशेष धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने कोटमी में इतिहास रचने के लिए प्रेरित किया। जितना हमें बदनाम करने साजिशें रची गई उतना ही हमारा नाम हुआ है। मुझ पर 150 से ज्यादा मामले दर्ज किए गए । यहीं नहीं उनके विरोधी ने उनके बोलने,प्रदेश के विभिन्न स्थानों में दौरा करने विधानसभा में मामला उठाने से रोकने की कोशिश भी की । अफसोस की बात ये कि लाख कोशिशों के बाद भी विरोधी सफल नहीं हो पाए । हम छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र हैं। छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ जनता की बेहतरी के लिए हम लोग सब सह लेंगे । हमें छत्तीसगढ़ियों होने का गर्व है। छत्तीसगढ़ की जनता का भरपूर स्नेह और आर्शीवाद हमें मिला है और भी मिलता रहेगा । लोरमी के पूर्व विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि कांग्र्रेस के कार्यकर्ताओं को अब अपमानित होना नहीं पड़ेगा। पूर्व मुख्यमंत्री श्री जोगी को प्रदेश के बड़े नेताओं ने गाली दी,मर्यादाओं को लांघा, अपमान किया । यह सब क्यों किया गया। यह आप लोगों से छिपी हुई नहीं है। प्रदेश में नसबंदी जैसे भयावह कांड हो जाता है। पोलावरम बांध बनाने से 40 हजार से ज्यादा आदिवासी परिवार का आशियाना लूट जाता है। कांग्रेस के नेताओं के कान में जूं तक नहीं रेंगी। अमित जोगी ने जब मामला उठाया तो कांग्रेस के कुछ बड़े नेताओं को वे खटकने लगे। हजारों की भीड़ के बीच कांग्रेस के दिग्गजों को ललकारते हुए श्री सिंह ने कहा कि राज्य सरकार के धतकरमों के खिलाफ आज तक क्या किया। ईमानदारी से विपक्ष की भूमिका भी नहीं निभाई। जिसने कोशिश उस पर राज्य सरकार का एजेंट होने का भद्दा आरोप मढ़ दिया । नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव पर निशाना साधते हुए कहा कि अच्छा काम करने के बाद भी हवाई जहाज में बैठकर दिल्ली का उड़ान भरने और बड़े नेताओं का कान भरने वाले लोग कांग्रेस का भला नहीं कर सकते। दोटूक कहा कि उन्हें कांग्रेस पार्टी से निष्कासन का डर नहीं है। इसके अलावा वे कांग्रेस से अब विधायक बनने की लालसा भी नहीं रखते हैं। इसकी वजह कई हैं। उन्होंने छत्तीसगढ़ के प्रभारी बीके हरिप्रसाद पर तंज कसते हुए कहा कि जो खुद पंचायत चुनाव भी नहीं जीत सके वे यहां चुनावी रणनीति बना रहे हैं। जिनके नेतृत्व में कांग्रेस को पिछला दो चुनाव हारना पड़ा। वहीं रायपुर में बैठे एक महामंत्री इतने ताकतवर हैं कि पार्टी संविधान को अपने जेब में रखकर चलते हैं। नियम कायदे से विपरीत किसी को भी पार्टी से निकाल देते हैं और किसी भी संगठन में पद दे देते हैं। लेकिन अब छत्तीसगढ़ की जनता यह बर्दाश्त नहीं करेगी। विकल्प तैयार करने का समय आ गया है। अब किसी से डरने की जरुरत नहीं है। हमें कोई आंख नहीं दिखा सकता और न ही हम ऐसा बर्दाश्त करेंगे । जोगी के कार्यक्रम में विधायक रेणु जोगी, गुंडरदेही विधायक आरके राय एवं बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक के अलावा पूर्व मंत्री डीपी धृतलहरे, विधान मिश्रा और पूर्व विधायक परेश बागबहरा,पूर्व विधायक चंदभान बारमते मंच पर नजर आए । यह है घोषणा-पत्र में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के नेतृत्व में नया दल बनाने का निर्णय लिया गया है। नया दल छत्तीसगढ़ का अपना दल होगा। प्रदेश के लोगों की किस्मत की डोर छत्तीसगढ़ के लोग खुद अपने हाथों में लेंगे। अब छत्तीगढ़ के फैसले छत्तीसगढ़ में ही लिए जाएंगे। नए राजनैतिक दल का मूलमंत्र सर्ववर्ग हिताय, सर्वधर्म सुखाय होगा। अमीर धरती, गरीब लोग का अभिशाप मिटाकर अमीर धरती, अमीर लोग की पहचान बनाने का संकल्प लिया गया है। किसानों और मजदूरों को गरीबी से आजादी, युवाओं को बेकारी से आजादी, महिलाओं को अत्याचार से आजादी, व्यापारियों को सभी प्रकार के टैक्स व लालफीताशाही से आजादी, आम जनता को भ्रष्टाचार, महंगाई, प्रशासनिक आतंकवाद और सभी प्रकार के नशे और सामाजिक कुरीतियों से आजादी। सभी वर्ग के सहयोग से वर्ष 2018 के चुनाव में पूर्ण बहुमत से प्रदेश की अपनी सरकार बनाने का लक्ष्य। देश में छत्तीसगढ़ का परचम लहराने दिल्ली में कम से कम 10 ऐसे सांसदों को भेजने का निर्णय लिया गया है जो केवल छत्तीसगढ़ के हितों को सर्वोपरि रखेंगे। ग्राम आवाज आंदोलन के दूसरे चरण में अजीत जोगी के नेतृत्व में रमन मुक्त छत्तीसगढ़ बनाने के लिए सभी गांवों व शहरों में भाजपा सरकार के विरुद्घ अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा। जनता द्वारा पारित रमन सरकार के विरुद्घ अविश्वास प्रस्ताव को एक नवंबर 2016 छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस पर राष्ट्रपति को सौंपा जाएगा। नई पार्टी के नाम को लेकर प्रोफार्मा जारी किया गया है। इसमें आम लोगों से 8 अलग-अलग नामों के विकल्प के साथ ही अपनी ओर से नाम सुझाने की अपील की गई है। इन 8 नामों में छत्तीसगढ़ विकास कांग्रेस, छत्तीसगढ़ लोक पार्टी, छत्तीसगढ़ विकास पार्टी, छत्तीसगढ़ कांग्रेस, छत्तीसगढ़ जन कांग्रेस, छत्तीसगढ़ स्वराज पार्टी, छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय समिति और छत्तीसगढ़ अपना दल शामिल है। प्रोफार्मा…

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>