भारत का विरोध कर रहे चीन ने कहा, NSG पर चर्चा के दरवाजे खुले

Jun 22, 2016

एनएसजी में भारत की सदस्यता के प्रयास का विरोध कर रहे चीन ने मंगलवार को पहली बार कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए ‘दरवाजे खुले हैं.’

लेकिन साथ ही भारत का समर्थन करने के लिए अमेरिका की आलोचना करते हुए कहा कि वह उन देशों में शामिल था जिसने एनएसजी में गैर एनपीटी देशों के प्रवेश के खिलाफ नियम बनाए.

चीन के विदेश मंत्रालय ने 48 सदस्यों वाले एनएसजी से कहा कि क्या इस समूह में गैर एनपीटी देशों को शामिल करने के लिए नियमों में बदलाव होने चाहिए, इस पर ‘ध्यान केंद्रित करें.’

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, मैंने भारत का समर्थन करने वाले अमेरिकी बयान को नहीं देखा है. लेकिन अमेरिका उन देशों में शामिल है जिसने नियम बनाए कि गैर एनपीटी देशों को परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में शामिल नहीं किया जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें :-  तीन दशक बाद सऊदी में होगी सिनेमा की एंट्री, इस दिन शुरू होगी पहली फिल्म

 

उन्होंने कहा, संबंधित नियम इस सिद्धांत पर बना कि एनएसजी के केंद्र में एनपीटी था.

हुआ ने इस सवाल पर यह टिप्पणी की कि क्या अमेरिका परमाणु व्यवसाय क्लब के सदस्यों से कह रहा है कि भारत के आवेदन का समर्थन करें.

बाद में भारतीय मीडिया से बात करते हुए हुआ ने कहा, एनएसजी सदस्यों के बीच इस बात को लेकर जहां चर्चा चल रही है वहीं सोल में वर्तमान बैठक में नये सदस्यों को शामिल करना सूचीबद्ध नहीं हुआ है. हुआ ने कहा, दरवाजे खुले हुए हैं. संभावना है. हमने कभी नहीं कहा कि हम किसी के खिलाफ हैं. हमने किसी देश को लक्षित नहीं किया चाहे भारत हो या पाकिस्तान.

ये भी पढ़ें :-  तीन दशक बाद सऊदी में होगी सिनेमा की एंट्री, इस दिन शुरू होगी पहली फिल्म

हुआ ने कहा, चीन एनएसजी में नये सदस्यों को शामिल करने के लिए अप्रसार संधि (एनपीटी) की चिंता करता है. उन्होंने कहा, यह अंतरराष्ट्रीय अप्रसार का मुख्य हिस्सा है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>