सबरीमाला मंदिर का ध्वज-स्तंभ क्षतिग्रस्त, 5 हिरासत में..

Jun 26, 2017
सबरीमाला मंदिर का ध्वज-स्तंभ क्षतिग्रस्त, 5 हिरासत में..

केरल के बेहद प्रतिष्ठित सबरीमाला मंदिर में रविवार को ही प्रतिष्ठापित किए गए नए ध्वज-स्तंभ को क्षतिग्रस्त किए जाने के संदेह में पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। संदिग्धों को मंदिर में नियुक्त सुरक्षाकर्मियों ने हिरासत में ले लिया, जिनकी पहचान मंदिर पर लगे सीसीटीवी कैमरों से की गई।

प्रारंभिक जांच के आधार पर आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा से पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है।

पुलिस हिरासत में लिए गए संदिग्धों से पूछताछ कर रही है।

केरल के देवासम मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन और देवासम के अन्य अधिकारियों की उपस्थिति में रविवार को ही सबरीमाला मंदिर के पुजारियों ने इस नए ध्वज स्तंभ को प्रतिष्ठापित किया, जिस पर स्वर्ण-पत्र का आवरण है।

सुरेंद्रन ने यहां पत्रकारों से कहा, “यह बहुत ही दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। हमें बताया गया कि पारे में डूबा कपड़ा ध्वज स्तंभ के निचले हिस्से पर फेंका गया, जिसके चलते यह क्षतिग्रस्त हो गया।”

सुरेंद्रन ने कहा, “पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और फोरेंसिक विभाग घटना की जांच में लगा हुआ है।”

पश्चिमी घाट पर्वतमाला पर 914 मीटर की ऊंचाई पर स्थित सबरीमाला मंदिर पथनामथित्ता जिले में पंपा से चार किलोमीटर दूर स्थित है।

सबरीमाला मंदिर के इस नए ध्वज स्तंभ को आंध्र प्रदेश के एक श्रद्धालु कारोबारी ने दान स्वरूप अर्पित किया था। कथित तौर पर इसकी कीमत 3.5 करोड़ रुपये है।

सीसीटीवी फूटेज में ध्वज स्तंभ के निचले हिस्से पर कपड़े का एक टुकड़ा फेंके जाते दिखाई दे रहा है। कपड़े में लगे रसायन की वजह से जल्द ही स्वर्ण-पत्र बाहर निकल आता है।

सीसीटीवी फूटेज में एक 65 वर्षीय व्यक्ति ध्वज स्तंभ पर कपड़ा फेंकता दिख रहा है, जबकि पास ही में खड़े दो अन्य व्यक्ति इस वाकये को अपने मोबाइल कैमरे में कैद करते नजर आ रहे हैं।

पुलिस ने हिरासत में लिए गए संदिग्धों में से एक व्यक्ति के बैग में से पारे से भरी एक बोतल बरामद की है।

पुलिस का मानना है कि अपराध के पीछे व्यापारिक दुश्मनी हो सकती है। ऐसा माना जा रहा है कि ध्वज-स्तंभ को क्षतिग्रस्त करने वाले दानदाता कारोबारी के विरोधी व्यापारिक समूह से संबद्ध हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>