सार्क सम्मलेन रद्द, पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका

Sep 29, 2016
सार्क सम्मलेन रद्द, पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका

नवम्बर में होने वाला दक्षेस शिखर सम्मलेन अब पाकिस्तान में नहीं होगा| नेपाल को अब इसकी जिम्मेदारी दी जाएगी| ये पूरा घटनक्रम उरी हमले का असर माना जा रहा है| यह पाकिस्तान के लिए एक बड़ी शर्मिदगी है|

भारत, अफगानिस्तान, बांग्लादेश और भूटान- ने इस शिखर सम्मेलन से खुद को अलग रखने का निर्णय लिया है।

इन देशों ने इसका कारण पाकिस्तान पर इस क्षेत्र में आतंकवाद को बढ़ावा देना बताया है। नेपाल के सूत्रों के अनुसार, दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (दक्षेस) के मौजूदा अध्यक्ष नेपाल ने इसकी पुष्टि की है कि चार देशों का उसे संदेश मिला है, जिन्होंने कहा है कि इन देशों ने इस्लामाबाद में नौ और 10 नवंबर को होने वाले शिखर सम्मेलन में भाग लेने में अपनी असमर्थता जता दी है।

दक्षेस की प्रक्रिया सर्वसम्मति पर आधारित है। एक सदस्य भी यदि सम्मेलन में भाग नहीं लेता है, तो सम्मेलन स्वत: स्थगित या रद्द हो जाता है।

भारत ने मंगलवार को घोषणा की थी कि वह 18 सितम्बर को जम्मू एवं कश्मीर के उड़ी में सीमा पार से हुए आतंकी हमले को देखते हुए इस्लामाबाद सम्मेलन से अलग हो रहा है। उस हमले के लिए भारत ने पाकिस्तान स्थित आतंकियों को जिम्मेदार ठहराया है।

भारत ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि क्षेत्र में सीमा पार से बढ़ते आतंकवादी हमले और ‘एक देश द्वारा’ दक्षेस के सदस्यों के आंतरिक मामले में बढ़ते हस्तक्षेप ने ऐसा माहौल पैदा कर दिया है, जो 19वें दक्षेस सम्मेलन के सफल आयोजन के अनुकूल नहीं है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, “भारत नेपाल को अपने इस निर्णय से अवगत करा दिया है कि वह सम्मेलन में भाग नहीं लेगा।” इससे पहले इस्लामाबाद के दक्षेस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जाने का कार्यक्रम था।

स्वरूप ने कहा है कि भारत अब भी क्षेत्रीय सहयोग, क्षेत्रों को जोड़ने और संपर्क बढ़ाने के लिए अडिग है, लेकिन उसका मानना है कि यह केवल आतंक मुक्त माहौल में ही आगे बढ़ सकता है।उन्होंने बयान में कहा है, “मौजूदा परिस्थितियों में भारत सरकार इस्लामाबाद में प्रस्तावित सम्मेलन में भाग लेने में असमर्थ है।”

अफगानिस्तान ने मंगलवार को नेपाल को भेजे संदेश में कहा है, “अफगानिस्तान पर आतंकवाद थोपने के परिणामस्वरूप हिंसा और संघर्ष के बढ़ जाने के कारण अफ गानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी सर्वोच्च कमांडर के रूप में पूरी तरह व्यस्त रहेंगे। सम्मेलन में भाग ले पाना संभव नहीं हो पाएगा।”

बांग्लादेश ने कहा है, “बांग्लादेश के आंतरिक मामलों में एक देश के बढ़ते हस्तक्षेप ने ऐसा वातावरण बना दिया है, जो इस्लामाबाद में नवंबर 2016 में 19वें दक्षेस सम्मेलन के सफल आयोजन के अनुकूल नहीं है।”संदेश में कहा गया है, “इसे देखते हुए बांग्लादेश प्रस्तावित इस्लामाबाद सम्मेलन में भाग लेने में असमर्थ है।”भूटान ने अपने संदेश में कहा है, “इस क्षेत्र में आतंकवाद में हुई वृद्धि उनके भाग नहीं लेने का वजह है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>