RTI में हुआ खुलासा: यूपी की जेलों में पिछले पांच सालों में दो हजार से ज्यादा कैदियों की हुई है मौत

Oct 23, 2017
RTI में हुआ खुलासा: यूपी की जेलों में पिछले पांच सालों में दो हजार से ज्यादा कैदियों की हुई है मौत

यूपी की जेलों में पिछले पांच साल में दो हजार से ज्यादा कैदियों-बंदियों की मौत हुई है। मरने वाले कैदियों में पुरुष और महिलाएं दोनों ही शामिल हैं। यह चौंकाने वाला खुलासा आरटीआई एक्ट‍िवि‍स्ट नरेश पारस की ओर से मांगी गई जानकारी पर हुआ है।

बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता को जेल अधिकारी द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार, 2012 और 2017 के बीच 2,665 कैदियों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। इनमे से 360 कैदियों की मौत 2012 में, 358, 2013 में, 339, 2014 में, 412, 2015 में, 2016 और जबकि इस साल जनवरी से जुलाई तक 188 कैदियों की मौत हुई।

ये भी पढ़ें :-  फिल्म 'पद्मावत' पर भड़के ओवैसी, बोले- "बकवास फिल्म है, युवा अपने दो घंटे और पैसा बर्बाद ना करें"

आरटीआई कार्यकर्ता श्री पारस ने बताया कि मरने वाले कैदियों में आधे से ज्यादा अधिक आयु वर्ग के थे। इन कैदियों के मुकदमा अदालत में लंबित हैं। उन्होंने कहा कि 10 जनवरी 2013 को बुलंद शहर के जेल में एक 106 वर्षीय महिला कैदी की मौत हो गई थी। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ वर्षों में जेल के हालात में सुधार आया है लेकिन कैदियों की संख्या भी बढ़ गई है। राज्य सरकार कुछ नए जेल बनाने की योजना बना रही है जिससे भीड़ कम होगी और बेहतर सुविधाएं दी जा सकेंगी।’ बता दें कि उत्तर प्रदेश में 62 जिला जेल, पांच केंद्रीय जेल और तीन विशेष जेल हैं।

ये भी पढ़ें :-  अफ्जरुल के बाद एक और बंगाली मुसलमान की राजस्थान में हुई हत्या, शव पर मिले एसिड के जलने के निशान
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>