छत से टपकते पानी के बीच पढ़ने और पढ़ाने को मज़बूर

Jul 13, 2016

रतलाम। बाहर रिमझिम तो कभी तेज बारिश हो रही है। यही हालत शहर के बीच में संचालित एक स्कूल की कक्षा में भी है। तेज बारिश से अंदर भी पानी टपकने की रफ्तार तेज हो जाती है और रिमझिम में थोड़ी कम लेकिन पानी तो टपकता ही है।
शिक्षक छत से टपकते पानी से अपने को बचाने के लिए कभी इधर-उधर होते हैं तो कभी छात्राओं की कुर्सियों को वहां खिसकाकर पानी से बचाते हैं। इस जद्दोजहद में ज्यादातर समय बीत जाता है। करे भी तो क्या करे क्योंकि स्कूल संचालित करना है और बच्चों को पढ़ाना भी। जी हां यह नजारा देखना हो तो हम आपको ले चलते हैं हाट रोड पर संचालित विनोबा हाईस्कूल। एक ही परिसर में चार स्कूल संचालित होते हैं। इनमें से सबसे ज्यादा खराब हालत इसी हाईस्कूल की है। दो कक्षों के इस हाईस्कूल में दोनों ही कक्षों में एक इंच भी ऐसा स्थान नहीं बचा है जिसे सूखा कहा जा सके।

ये भी पढ़ें :-  उत्तराखंड में 68 फीसदी मतदान

नौवीं की कक्षा मावि में लगी
हाईस्कूल भवन मूल रूप से इस परिसर में पहले संचालित होते रहे प्राथमिक विद्यालय के भवन में ही लगता है। कक्षों में पानी टपकने से हालात यह है कि नौवीं कक्षा को मावि के खाली पड़े कक्ष में इस समय लगाना पड़ रहा है। प्राचार्य कक्ष और कार्यालय भी माध्यमिक विद्यालय के भवन में ही इस समय संचालित करना पड़ रहा है।

अंग्रेजी माध्यम स्कूल
इसी परिसर में अंग्रेजी माध्यम प्राथमिक विद्यालय भी संचालित हो रहा है। यहां भी हालात कुछ ऐसे ही हैं। छत से टपकते पानी के बीच बच्चों के बैठने के लिए चटाई बिछा रखी है। इस पर सिकुड़कर बच्चे बैठकर पढ़ाई कर रहे हैं। यहां के प्रधानाध्यापक कक्ष में तो बैठने की जगह भी नहीं होने से बरामदे में कार्यालय चल रहा है।

ये भी पढ़ें :-  पति व ससुराल वालों की रजामंदी से चचेरे देवर ने भाभी के साथ बनाए जबरन संबंध, ये थी वजह

बहुत मुश्किल है पढ़ाना
हमारा हाईस्कूल प्रावि के भवन में लगता है। इस स्कूल के दोनों कमरों की छतों से लगातार पानी टपकता है। ऐसे में यहां बच्चों को बैठाना और पढ़ाई करवाना ही मुश्किल हो रहा है। नौवीं कक्षा को मावि के कक्ष में स्थानांतरित करना पड़ा है। बारिश रूकने के बाद इसे ठीक करवाने का प्रयास करेंगे।
आरके त्रिपाठी, प्राचार्य विनोबा हाईस्कूल

रिपेयरिंग करवाई
विनोबा हाईस्कूल का अपना भवन नहीं है। वर्तमान में यह मावि-प्रावि के भवन में संचालित हो रहा है। प्राचार्य ने बताया था कि गर्मी के दिनों में प्रावि-मावि वालों ने इसकी छत की रिपेयरिंग करवाई थी। इसके बाद भी यहां छत से पानी टपक रहा है। इसकी जानकारी मिली है।

ये भी पढ़ें :-  पंचायत का फरमान सिर पर चप्पल रखकर घुमाओ, साथ ही पेशाब पिलाओ

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected