RBI ने बैंकों में ‘इस्लामिक विंडो’ खोलने का दिया प्रस्ताव, जल्द शुरू हो सकती हैं भारत में इस्लामिक बैंकिंग

Nov 21, 2016
RBI ने बैंकों में ‘इस्लामिक विंडो’ खोलने का दिया प्रस्ताव, जल्द शुरू हो सकती हैं भारत में इस्लामिक बैंकिंग

भारतीय रिज़र्व बैंक ने वित्त मंत्रालय को पत्र लिख कर बैंकों में ‘इस्‍लामिक विंडो’ खोले जाने का प्रस्‍ताव दिया है। ताकि देश में शरिया के जैसा या ब्‍याज-मुक्‍त बैंकिंग की शुरुआत की जा सके। पत्र में कहा गया है की भारतीय बैंको को इस्लामिक वित्तीय कारोबार को बारीकी से समझना और उसके नियमो का पता ना होने और उसका अनुभव ना होने के देखते हुए देश में इस्लामिक बैंकिंग सुविधा की तरफ धीरे धीरे बढ़ा जा सकता है।
RBI द्वारा भेजी गई रिपोर्ट में कहा गया कि RBI की राय है की सरकार द्वारा जरूरी अधिसूचना के बाद शुरू में इस इस्लामिक बैंक सुविधा के तहत बैंकों में आसान किस्म की योजनाएं पेश की जा सकती हैं। जो इस्लामिक बैंको के योजनाओं जैसी ही होंगी। खासकर RBI द्वारा भेजी गई रिपोर्ट में वित्त मंत्रालय को बताया गया है की इस्‍लामिक बैंकिंग ऐसा वित्‍तीय सिस्‍टम है जिसमें ब्‍याज वसूलने का सिद्धांत नहीं है। जो कि इस्‍लाम में मनहाई है। हमारी समझ से, ब्‍याज-मुक्‍त बैंकिंग के वित्‍तीय समावेश के लिए उत्‍पाद को शरिया के अनुरुप बनाना होगा। इसलिए हमें इस बैंकिंग के लिए एक अलग खिड़की खोलनी होगी। RBI ने पत्र में कहा है, ”अगर सुझाव के अनुसार, भारत में इस्‍लामिक बैंकिंग शुरू करने का फैसला होता है, तो बैंकों द्वारा ऐसे उत्‍पाद पेश करने के लिए नियामक और कार्यप्रभावी तंत्र बनाने के लिए आरबीआई को और काम करने की जरुरत है।

ये भी पढ़ें :-  यूपी में आरक्षण के मुद्दे को गरमाने में जुटे विपक्षी दल, भाजपा पड़ी मुश्किल में
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected