दंगा कराने के लिए रामसेना कार्यकर्ताओं ने फेंका था, राम मूर्ति पर गोबर: गुलबर्ग पुलिस

Oct 21, 2016
दंगा कराने के लिए रामसेना कार्यकर्ताओं ने फेंका था, राम मूर्ति पर गोबर: गुलबर्ग पुलिस

उत्तर प्रदेश- शाहाबाद पुलिस ने मंगलवार को की पुष्टि कि श्री रामसेना के कार्यकर्ताओं ने राम की मूर्ति पर पर गोबर फेंका था |

पुलिस ने सात में से छ आरोपियों को हिरासत में ले लिया है यह रिपोर्ट है डेक्कन डाइजेस्ट की जबकि एक आरोपी अभी भी फ़रार है | गिरफ्तार आरोपियों ने कथित तौर श्री रामसेना और कुछ अन्य अन्य दक्षिणपंथी संगठनों के साथ अपना संबंध कबूल किया है। गिरफ़्तार किये गये छ लोगों में सेपांच बहुसंख्यक समुदाय के हैं। जिनकी पहचान अभिषेक (19 वर्ष), श्रीनिवास (21), विनोद (22 वर्ष), नीलेश (24 वर्ष), तिम्मन्ना (25 वर्ष) व बाबा (22 वर्षों) के तौर पर की गयी है। शहर में मोहर्रम के दौरान सांप्रदायिक अशांति पैदा करने के लिए, शिव नाम के एक युवक ने फेसबुक पर मुसलमानों के खिलाफ भड़काऊ पोस्ट की थी। लेकिन बाद में मुस्लिम समुदाय की शिकायत पर उसको गिरफ्तार कर लिया गया था। शिव की गिरफ्तारी का बदला लेने के लिए विहिप और रामसेना ने अल्पसंख्यक समुदाय पर हिंदु भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाते हुए इस सांप्रदायिक घटना को अंजाम दिया था।

ये भी पढ़ें :-  तस्वीरें वायरल- इस बॉलीवुड अभिनेत्री ने अपने पैरों के तलवों पर बनवाया इस धर्म का टैटू, बुरी तरह भड़के लोग

गुलबर्गा एसपी एन शशि कुमार ने मीडिया को बताया कि एक युवक द्वारा मुस्लिम समुदाय के बारे में एक आपत्तिजनक पोस्ट किया गया था। जिसके बाद मुस्लिम समुदाय द्वारा इस पर आपत्ति जताते हुए और प्राथमिकी दर्ज कराए जाने पर युवक को गिरफ़्तार कर लिया गया था। कुछ अराजक तत्वों ने सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए मुस्लिम समुदाय पर राम की मूर्ति पर गोबर फैंके जाने का आरोप लगाया गया था | लेकिन आरोपियों की योजना को समझते हुए पुलिस ने उन्हें 2 घंटे में गिरफ़्तार कर लिया जिसकी वजह से कोई बड़ी घटना नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि 12 अक्टूबर को अलग-अलग संगठनों के 6-8 लोगों ने सांप्रदायिक तनाव पैदा करने के लिए ये योजना बनाई थी। कहा कि मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि श्री रामसेना के कार्यकर्ताओं ने ऐसा किया है लेकिन मैं ये कह रहा हूँ कि हिरासत में लिए गये कुछ लोगों ने ख़ुद को श्री रामसेना का कार्यकर्ता बताया है। इन लोगों ये सोच कर घटना को अंजाम दिया था कि इनकी पहचान नहीं की जा सकती है। पुलिस ने इस मामले को कड़ी मेहनत से हल किया है जिसकी वजह से एक बड़ा सांप्रदायिक तनाव टल गया।

ये भी पढ़ें :-  नाबालिग पुत्री को लगा पिता जी है धोखे से हुआ होगा, लेकिन कुछ देर बाद वह कुछ बोल भी नहीं पाई

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected