रामनाथ कोविंद का नाम पहले कभी नहीं सुना : ममता बनर्जी

Jun 20, 2017
रामनाथ कोविंद का नाम पहले कभी नहीं सुना : ममता बनर्जी

बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) द्वारा राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने पर आश्चर्य जताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि उन्होंने कोविंद का नाम पहले कभी नहीं सुना। उन्होंने कहा कि कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने का यह कदम ‘उतना परिपक्व’ नहीं है। संयुक्त राष्ट्र के एक कार्यक्रम को संबोधित करने के लिए दुबई से नीदरलैंड जाने के रास्ते में ममता ने कहा, “मैंने उनका नाम पहले कभी नहीं सुना। मैं उन्हें नहीं जानती। मैं उन्हें तभी पहचानती, जब उन्हें बिहार का राज्यपाल बताया जाता। मैं कह सकती हूं कि फैसले से मैं हतप्रभ हूं।”

ये भी पढ़ें :-  हिमाचल प्रदेश के शिमला में एक निजी बस खाई में गिरी, अभी तक 15 लोगों की मौत

उन्होंने कहा, “हमारे बीच विचार-विमर्श के दौरान उनका नाम नहीं आया। हमने सर्वसम्मत प्रस्ताव दिया था, क्योंकि राष्ट्रपति का पद बेहद अहम होता है। यह नाम हैरान करने वाला है। यह परिवक्व कदम नहीं है।”

राष्ट्रपति की भूमिका को राष्ट्र तथा संविधान की सुरक्षा में अहम करार देते हुए ममता ने दलील दी कि इससे बेहतर होता कि इस विषय के किसी विशेषज्ञ का चयन किया जाता।

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने उल्लेख किया, “सर्वविदित है कि राष्ट्रपति राष्ट्र तथा संविधान की सुरक्षा में अहम किरदार निभाते हैं। इससे बेहतर होता कि उनकी जगह प्रणब मुखर्जी, लालकृष्ण आडवाणी या सुषमा स्वराज को चुना जाता, जो संविधान के विशेषज्ञ हैं और देश को अच्छी तरह से जानते हैं।”

ये भी पढ़ें :-  अमरनाथ यात्रा के लिए 1,782 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था रवाना

उन्होंने कहा, “मैं यह नहीं कह रही हूं कि बिहार के राज्यपाल राष्ट्र को नहीं जानते। मैंने विपक्ष के दो या तीन नेताओं से बातचीत की है, वे भी हैरान हैं। देश में अन्य बड़े दलित नेता हैं। केवल इसलिए कि वह भाजपा दलित मोर्चा के अध्यक्ष रहे हैं, उन्होंने उन्हें उम्मीदवार बना दिया। यह अच्छी परंपरा नहीं है।”

ममता ने कहा, “अगर कोई नाम की घोषणा करने के बाद हमसे बातचीत करने का फैसला करता है, तो हम उससे कहेंगे कि हम उस व्यक्ति को नहीं जानते। यह सर्वसम्मत फैसला नहीं है।”

उन्होंने कहा कि वह अंतिम फैसला लेने से पहले 22 जून को विपक्षी पार्टियों की बैठक का इंतजार करेंगी।

ये भी पढ़ें :-  पूर्वोत्तर राज्यों से इस साल 4,472 लोग, हज यात्रा के लिए सऊदी अरब जाएंगे
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>