पाकिस्तानी बालक रमजान आखिरकार जा रहा है अपने पिता के पास वापस

Apr 07, 2016

भोपाल के उम्मीद बाल गृह में पिछले दो साल से अधिक समय से रह रहा 15 वर्षीय पाकिस्तानी बालक रमजान आखिरकार अपने पिता के पास बांग्लादेश वापस जा रहा है.

रमजान पाकिस्तान से अपने पिता के साथ पहले बांग्लादेश पहुंचा था, उसके बाद वह अपनी मां के पास पाकिस्तान जाने के प्रयास में अकेला भारत आ गया और भारत के विभिन्न शहरों से होता हुआ पिछले दो साल से अधिक समय से भोपाल में रह रहा था.

बाल गृह उम्मीद की संचालिका अर्चना सहाय ने बुधवार को ‘भाषा’ को बताया, ”मोहम्मद रमजान आज शाम यहां से कोलकाता के लिये रवाना हो गया है. जहां पर एक संस्था संलप की सहायता से वह बांग्लादेश जायेगा, जहां उसके पिता रहते हैं.”

उन्होंने बताया, ”हमने पाकिस्तान में रह उसकी मां से मिलाने के काफी प्रयास किये लेकिन ऐसा नहीं हो सका. यह जानकारी मिलने के बाद कि बांग्लादेश से पाकिस्तान वह आसानी से जा सकता है. हमारे पास उसे बांग्लादेश उसके पिता के पास भेजने का विकल्प ही बचा था.”

पाकिस्तानी बालक मोहम्मद रमजान की दास्तां अखबार में पढ़ने के बाद हमजा बासित (20) नाम के एक व्यक्ति ने उसे उसके घर कराची वापस भेजने के प्रयास शुरू किए. हमजा ने कहा कि रमजान की मां रजिया बेगम से तलाक के बाद उसका पिता मोहम्मद काजल उसे मां से अलग करके बांग्लादेश ले गया और वहां उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली.

अर्चना ने बताया कि सौतेली मां और पिता के बदले व्यवहार से परेशान रमजान करीब 5 साल पहले अपनी मां के पास वापस कराची लौटने के लिए बांग्लादेश से भारत आ गया.

भोपाल में चार्टर्ड एकाउंट (सीए) की पढ़ाई करने वाले हमजा ने बताया कि भारत में रमजान रांची, मुंबई और दिल्ली में भटकता रहा. भोपाल रेलवे स्टेशन पर उसे पुलिस ने पकड़ लिया और अक्टूबर 2013 में उसे बाल गृह भेज दिया गया.

उन्होंने कहा कि रमजान के बारे में पढ़कर वह उससे मिला और सीमा पार कर यहां आने की उसकी पूरी दास्तां सुनी तथा बाद में उसकी दास्तां को सोशल मीडिया के जरिए कराची में अपने दोस्तों के साथ शेयर किया.

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>