पुरी की वार्षिक रथ यात्रा शुरू, श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा..

Jun 26, 2017
पुरी की वार्षिक रथ यात्रा शुरू, श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा..

ओडिशा के पुरी शहर की भगवान जगन्नाथ और उनके भाई-बहनों की विश्व प्रसिद्ध वार्षिक रथ यात्रा रविवार को शुरू हो गई। भारी बारिश के बावजूद श्रद्धालुओं का उत्साह कम नहीं हुआ

रथयात्रा में शामिल होने के लिए लाखों श्रद्धालु इस यात्रा के लिए एकत्रित हुए, जिसमें लकड़ी के तीन विशाल रथों को भक्तों द्वारा खींचकर गुंडिचा मंदिर तक ले जाया जाता है, जिनमें भगवान जगन्नाथ, उनके बड़े भाई भगवान बलभद्र और उनकी बहन देवी सुभद्रा के विग्रह विराजमान होते हैं।

रथ यात्रा (रथ उत्सव) के दौरान 12 वीं शताब्दी के जगन्नाथ मंदिर से तीनों देवी देवताओं के विग्रहों को अपने-अपने रथों में बैठाकर देवी गुंडिचा के मंदिर ले जाया जाता है। नौ दिन बाद बहुदा यात्रा यानी तीनों के वापस लौटने की यात्रा के साथ इस उत्सव का समापन होता है।

ये भी पढ़ें :-  असम में बाढ़ से 12 लाख लोग प्रभावित, अब तक 59 की मौत

इस वर्ष इस उत्सव से जुड़े धार्मिक अनुष्ठान रविवार सुबह करीब 10.30 बजे शुरू हुए, जब तीनों देवी देवताओं को एक जुलूस में भगवान सुदर्शन सहित मंदिर के बाहर खड़े रथों में ले जाया गया। इस बीच ‘बड़ा दंड’ (ग्रांट रोड) घंटों, कहलर, महुरी, पंखुजा, मर्दल समेत कई वाद्ययंत्रों की ध्वनि से गुंजायमान रहा।

देवी-देवताओं के विग्रहों को उनके रथों में बैठाने के बाद पुरी के महाराज गजपति दिग्विजय सिंह ‘छेरा पंहारा’ सम्पन्न करते हैं। श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन (एसजेटीए) के प्रमुख प्रदीप जेना ने कहा कि उसके बाद रथों को खींचने का कार्य शुरू होता है।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह के अलावा कई केंद्रीय और राज्य मंत्रियों ने लोगों को रथयात्रा के मौके पर शुभकामनाएं दीं।

ये भी पढ़ें :-  उप्र : डेढ़ घंटे तक स्टेशन पर खड़ी रही सप्तक्रांति एक्सप्रेस

उत्सव की सुचारू व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए सैकड़ों पुलिसकर्मियों को जगह-जगह तैनात किया गया है।

पुलिस महानिदेशक के.बी. सिंह ने कहा कि रथयात्रा के लिए व्यापक सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>