अपने भाषण में हाथरस को नाम लेकर क्या मोदी ने साधा अखिलेश पर निशाना!

Aug 15, 2016

नई दिल्ली। आजादी के 69 साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री ने लाल किले के प्राचीर से देश के हर मुद्दे को ध्यान में रखा। साथ ही उन्होंने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को भी ध्यान में रखा।

पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली से केवल 3 घंटे की दूरी पर हाथरस इलाके के नगला फटेला गांव है। यहां बिजली पहुंचने में 70 साल लग गए। हमने यहां काम कर के गांव को रोशन किया।

अब तक की सरकारों पर किया हमला!

प्राचीर से के हाथरस जिले का नाम लेने पर माना जा रहा है कि पीएम मोदी ने अब तक की प्रदेश सरकारों पर हमला किया है।

अपने भाषण में ग्रामीण इलाकों की सडक, बिजली और गरीबी को ध्यान में रखने पर जानकारों का कहना कि एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह दलितों के घर भोजन कर रहे हैं, यूपी के काकोरी जाकर राष्ट्रवाद की अलग जगा रहे हैं वहीं मोदी आज भी अपने विकास के एजेंडे पर कायम हैं।

वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री का भी दावा है कि उनके कार्यकाल में प्रदेश का विकास हुआ है लेकिन पीएम द्वारा प्राचीर से हाथरस की चर्चा करने पर ऐसा माना जा रहा है कि यह विकास के एजेंडे पर भाजपा और सपा आगामी विधानसभा चुनाव में एक दूसरे को काउंटर करेंगे।

ये हैं हालात

बात अगर देश में बिजली के हालात पर करें तो इसी साल मई में निजी न्यूज चैनल द्वारा इसके हालात पर की गई खोजबीन की गई थी।

जिस निजी कंपनी रुरल इलेक्ट्रीफिकेशन कार्पोरेशन को ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युतीकरण के लिए काम करने का जिम्मा दिया है उसकी वेबसाइट पर इस बात की जानकारी दी गई थी कि देश के अप्रैल 2016 में 40 फीसदी गावों का विद्युतीकरण कर दिया गया है और सिर्फ 58 फीसदी गावों का विद्युतीकरण बाकी है।

चैनल की रिपोर्ट में दावा किया गया था कि उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और मध्यप्रदेश में वो हालात नहीं है जिसका दावा पीएम मोदी ने किया था। दरअसल, पीएम मोदी ने साल 2015 में यह दावा किया था कि देश के 18,000 गांवों में बिजली पहुंचा दी जाएगी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>