उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियां पूरी, जाने किस किस तारीख में डाल सकेंगे वोट

Oct 22, 2016
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियां पूरी, जाने किस किस तारीख में डाल सकेंगे वोट

केंद्र सरकार की ओर से यूपी समेत पांच राज्यों के अगामी विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियां पूरी हैं। चुनाव पहले देश के छोटे राज्यों में होंगे फिर उत्तर प्रदेश में। यूपी में चुनाव के लिए संभावित तारिख भी तय की गई है।दरअसल चुनाव के लिए सुरक्षा बल की उपलब्धता पर केंद्र ध्यान दे रहा है। मौजूदा समय में सुरक्षा बलों की स्थिति सही है। इसे देखते हुए चुनाव कार्यक्रम जनवरी में शुरू कर दिए जाने की संभावना है।  पहले छोटे राज्यों मणिपुर, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब में चुनाव करवाएा जाएंगे। उसके बाद सुरक्षा बलों की पूरी तरह इन राज्यों से मुक्त करके उत्तर प्रदेश में केंद्रित किया जाएगा। केंद्र इस बार 80,000 से ज्यादा केंद्रीय सुरक्षा बल चुनाव के लिए मुहैया करवाएगा।
यूपी में चुनाव की तारीख
सूत्रो ने बताया कि चुनावो की तिथियां पिछली बार के चुनावों की तरह से ही हो सकती है। उत्तर प्रदेश में पहले चरण का मतदान 5 या 11 फरवरी को हो सकता है। उसके बाद दूसरे चरण की तिथि 15 फरवरी, चौथे चरण में 22 फरवरी, पांचवा 26 फरवरी, छठवां 1 मार्च और सातवें चरण का चुनाव 4 मार्च शनिवार या 5 मार्च रविवार को हो सकता है।
सू़त्रो ने बताया कि चार राज्यों पंजाब, गोवा मणिपुर और उत्तराखं में एक ही चरण में और एक ही दिन चुनाव करवाए जाएंगे। ये जनवरी के 29 से 31 जनवरी तक निपट जाएंगे। चुनावों की घोषणा के बारे में उन्होने कहा कि यह दिसंबर से अंतिम सप्ताह में की जा सकती है।
सभी राज्यो में मतों की गिनती एक साथ होगी। पिछली बार यूपी में सबसे अधिक एक लाख 28 हजार 112 मतदान केंद्र बनाए गए थे।

कुल सीटे – 403

कुल वोटर – 11.50

विधानसभा की अवधि – 27 मई 2017 तक

पहला चरण -5 या 11 फरवरी, 60 सीटे

दूसरा चरण – 15 फरवरी बुधवार, 55 सीटे

तीसरा चरण – 18 फरवरी शनिवार, 59 सीटे

चौथा चरण- – 22 फरवरी बुधवार, 36 सीटे

पांचवां चरण – 26 फरवरी रविवार, 56 सीटे

छठवां चरण – 1 मार्च बुधवार, 49 सीटें

सतवा चरण- 4 मार्च या 5 मार्च, 68 सीटे

सूत्रों का दावा है की पिछली बार की तरह इस बार भी चुनाव बोर्ड परीक्षा से पहले होंगे। बोर्ड परीक्षा में स्टूडेंट्स को कोई परेशानी न हो इसका ध्यान भी रखा जाएगा।ऐसा माना जा रहा है की यूपी में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाएं मार्च के पहले हफ्ते के बाद शुरू होंगे।परीक्षा अगर अप्रैल तक टलते हैं तो गर्मी की दिक्कत होती है। इसके साथ ही गेंहू की कटाई भी प्रभावित होती है।

मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ नसीम जैदी की अगुवाई में आए चुनाव आयोग ने 25 से 27 सितंबर के बीच लखनऊ में पुलिस प्रशासन के अफसरों के साथ बैठकें की। इन बैठकों में चुनाव फरवरी 2017 में कराने की बात कही गई। विस चुनाव के लिए खाका तैयार किया जा रहा है। दिसंबर तक अधिसूचना भी आ सकती है। अधिसूचना जारी होने के बाद पहले चक्र के लिए सात दिन नामांकन के लिए, आठवां दिन जांच के लिए, दसवें दिन नाम वापसी के लिए दी जाएगी। प्रचार के लिए 14 दिन दिए जाएंगे। इसके बाद 24वें और 25 वें दिन मतदान करवाया जा सकता है। हर चक्र में पांच-पांच दिन का अंतर रखा जायेगा।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के सूत्रों के अनुसार 2012 में प्रदेश में सात चक्रों में विस चुनाव हुएथे। इसमें आठ मार्च को मतगणना हुई थी। इसके बाद मार्च को सरकार ने शपथ लिया लिया था।

चुनाव में कोई भी राजनीतिक दल गलत तरह से प्रचार-प्रसार न करे इसको लेकर चुनाव आयोग की नज़र इस बार फेसबुक, ट्वीटर अकाउंट, यू ट्यूब जैसे सोशल मीडिया माध्यमों पर भी होगा। आयोग फेसबुक से धनबल और बाहुबलियों पर अपनी नज़रें पैनी रखेगा।

प्रसाशन ने राजधानी के नौ विधानसभा क्षेत्रों में 523 मतदान केंद्रों को संवेदनशील और अतिसंवेदनशील घोषित कर दिया है। जिले में कुल 1443 मतदान केंद्रों पर 3357 पोलिंग बूथ बनाए जाने हैं। इन जगहों पर चुनाव आयोग की पैनी नज़र रहेगी।

दरअसल साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में 352 मतदान केंद्रों को संवेदनशील श्रेणी में माना गया था। इस साल सर्वे में 171 नए संवेदनशील मतदान केंद्र और पाए गए हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>