गर्भवती महिला ने लड़की की आशंका पर तीन तलाक का आरोप लगाया

Mar 30, 2017
गर्भवती महिला ने लड़की की आशंका पर तीन तलाक का आरोप लगाया

उत्तर प्रदेश में एक गर्भवती महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे पत्र में आरोप लगाया है कि उसके पति ने तीन तलाक बोलकर उसे तलाक दे दिया है। पुलिस ने गुरुवार को बताया कि महिला ने पत्र में लिखा है कि उसके पति ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उसे डर है कि उसके गर्भ में लड़की है।

सहारनपुर के पुलिस प्रमुख लव कुमार ने आईएएनएस को बताया कि बुधाखेडा गांव की शगुफ्ता नाम की महिला ने अपने पति शमशाद और ससुराल वालों के खिलाफ मंगलवार को मामला दर्ज कराया है।

शुगुफ्ता की शमशाद से पांच साल पहले शादी हुई थी और इस जोड़े की 4 साल और 18 महीने की दो बेटियां हैं।

कुमार ने कहा, शुगुफ्ता ने मोदी और योगी से अपने बेटियों और आने वाले शिशु को बचाने की गुजारिश की है। उन्होंने कहा, “महिला के पति ने उससे बेटी पैदा होने के डर से गर्भपात करवाने को कहा और ऐसा नहीं करने पर तीन बार तलाक कहकर तलाक देते हुए घर से बाहर निकाल दिया।”

मुस्लिम समुदाय में जारी तीन तलाक की प्रथा को फिलहाल सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी गई है और मामले की अगली सुनवाई 11 मई को होनेवाली है।

अधिकारी ने कहा कि शगुफ्ता ने अपने तीन देवरों नौशाद, जाफर अली और इलियास पर भी उस पर तीन महीने के भ्रूण को गिराने का दबाव डालने का मामला दर्ज कराया है। उसने ससुरालवालों पर मारपीट करने और प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया है।

अधिकारी ने कहा कि एक महिला की सहमति के बिना गर्भपात करने और महिला के साथ क्रूरता की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है और पुलिस महिला की चिकित्सा परीक्षा रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

उन्होंने कहा, “हमने मामले की जांच के लिए विशेष दल का गठन किया है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।”

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>