प्रकाश राज ने फिर साधा पीएम मोदी पर निशाना, कहा- नोटबंदी के लिए माफी मांगे

Nov 09, 2017
प्रकाश राज ने फिर साधा पीएम मोदी पर निशाना, कहा- नोटबंदी के लिए माफी मांगे

नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर मोदी सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर है। हर तरफ से इसे लेकर अलग-अलग रिएक्शन आ रहे हैं। इस पर बॉलीवुड एक्टर प्रकाश राज ने अपनी राय रखते हुए नोटबंदी के फैसले को सरकार की सबसे बड़ी भूल बताया और उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि वह इसके लिए माफी मांगे।

बता दें कि बॉलीवुड एक्टर प्रकाश राज ने ट्विटर पर एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि, “जहां अमीरों को अपने काले धन को कड़क नोटों में तब्दील करवाने के कई रास्ते मिल गए…इसका लाखों लोगों की जिंदगी पर गहरा असर पड़ा और वे लाचार हो गए…असंगठित क्षेत्र के कर्मियों को जोर का झटका लगा…क्या आपको अपने समय की सबसे बड़ी भूल के लिए माफी नहीं मांगनी चाहिए…मैं तो सिर्फ यूं ही पूछ रह था।”

गौरतलब है कि 8 नवंबर, 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा करते हुए 500 और 1000 रुपये के नोटों का विमुद्रीकरण कर दिया था और कहा था कि इसका उद्देश्य कालेधन पर रोक लगाना और आतंक को की जाने वाली फंडिंग को समाप्त करना है। अब इसके एक साल पूरे होने पर सरकार लगातार सभी के निशाने पर है।

ये पहली बार नहीं है जब 52 वर्षीय राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता प्रकाश राज ने सरकार को निशाने पर लिया है। इससे पहले प्रकाश राज ने पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या का जश्न मनाने पर पीएम की निंदा करते हुए कहा था कि मोदी सरकार डरावनी है। प्रउन्होंने कहा था कि ”मैं बड़ा एक्टर हूं लेकिन ये दोनों (मोदी और योगी) मुझसे भी बड़े एक्टर हैं।”

पिछले हफ्ते कन्नड़, तेलुगु और तमिल फिल्मों के स्टार राज ने ‘हिंदू चरमपंथियों’ पर कमल हासन की राय पर भी सहमति जताई थी। उनके इसी बयान को लेकर हिंदू महासभा ने आक्रामक रुख अपनाते हुए कहा था कि, “कमल हासन और उनके जैसे बाकी लोगों को गोली मार देना चाहिए या फिर फांसी पर लटका देना चाहिए, ताकि वे लोग कुछ सबक सीख सकें। कोई भी व्यक्ति जो हिंदू धर्म से संबंध रखने वालों के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करता है उसे तो इस पावन धरती पर रहने का कोई अधिकार ही नहीं होना चाहिए और अपशब्दों के बदले में मौत की सजा देनी चाहिए।” ये सारी बात महासभा के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा ने कहीं थीं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>