नौकरी देने के नाम पर PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में हुआ फर्जीवाड़ा

Sep 26, 2016
नौकरी देने के नाम पर PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में हुआ फर्जीवाड़ा

मामला सामने आया है। जिसमे प्रधानमंत्री  मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट डीडी किसान चैनल में नौकरी के नाम पर बड़े फर्जीवाड़े हुआ है। जी हां किसान चैनल में नियुक्ति के नाम पर बेरोजगार युवकों को झांसा देकर उनसे रुपये मांगे जा रहे हैं। ऐसा ही एक नियुक्ति पत्र देहरादून के पंडितवाड़ी में रहने वाले गुरप्रीत सिंह के पास आया है। इतना ही नहीं इसमें चैनल के लोगो के साथ प्रधानमंत्री की फोटो लगी है और 32,500 रुपये मासिक वेतन दिए जाने का जिक्र है।

क्योंकि इसमें एक शर्त दी हुई है कि नियुक्ति से पहले प्रशिक्षण शुल्क एवं सिक्योरिटी राशि के रूप में 11,500 रुपये बैंक खाते में जमा करने होंगे। इसी से इसके जाली होने का संदेह हो रहा है। पंडितवाड़ी निवासी एसएस संधू को शक तब गहराया जब बेटे गुरप्रीत सिंह ने उनसे कहा कि मैंने तो किसान चैनल में आवेदन किया ही नहीं।

ये भी पढ़ें :-  मणिपुर के उप मुख्यमंत्री आतंकी हमले में बाल-बाल बचे

तब उन्होंने इस पर छानबीन करने के लिए दिए हुए फोन नंबर 08527013648 पर काल किया तो उधर से जबाब आया कि ‘हेलो’ दिल्ली दूरदर्शन से बोल रहा हूं। जिसके बाद जैसे ही इस बारे में पूछताछ शुरू किया तभी फोन काट दिया। बकौल संधू अगले दिन दोबारा फोन किया तो फोन उठाने वाले शख्स से रुपये जमा करने के लिए खाता नंबर समेत तमाम सवाल किए गए तो पहले वह टालमटोल करने लगा, बाद में बोला पैसे जमा करने की तारीख निकल गई है। अब कुछ नहीं हो सकता।

फ़ोन पर बात करने वाले ठगों का यह गिरोह रिक्रूटमेंट करने वाले वेबसाइट से बेरोजगार युवाओं की डिटेल चुराता है। जिसके बाद में उनसे संपर्क करके ऑनलाइन आवेदन मांगा जाता है। आवेदन के बाद परीक्षा या साक्षात्कार के बजाय सीधे नियुक्ति पत्र युवकों के घर के पते पर भेज दिया जाता है।

ये भी पढ़ें :-  भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या पर हुआ मुकदमा, जानिए क्या था मामला

जिसके बाद नियुक्ति पत्र पर दिए गये फोन नंबर पर फ़ोन करने की बात लिखी होती है और फोन करते ही नौकरी के लिए प्रशिक्षण एवं जमानत राशि के रूप में 11,500 रुपये मांगे जाते हैं। वहीँ झांसे में आकर कुछ लोगों ने पैसा जमा भी करवा चुके हैं।

दूरदर्शन केंद्र में कोई भी नियुक्ति तरह नहीं होती। किसी भी पद पर बहाली की सूचना सभी अखबारों में प्रकाशित करने के साथ दूरदर्शन की अपनी वेबसाइट पर दी जाती है। साथ ही किसान चैनल पर भी लगातार इससे संबंधित सूचना चलती रहती हैं। कोई इस तरह आवेदन मंगवाता है और पैसे की मांग करता है तो इसकी शिकायत पुलिस में तत्काल करें।इस तरह के फर्जीवाड़े पर आकाशवाणी न्यूज के एक दशक तक उत्तराखंड हेड रहे प्रकाश थपलियाल से बात की गई तो उन्होंने बताया है।

ये भी पढ़ें :-  अखिलेश यादव का योगी आदित्यनाथ पर हमला: अगर बिजली नहीं आ रही तो तार पकड़कर दिखाएं बाबा

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected