PM मोदी के कार्यकाल में 60% घट गए नई नौकरियों के मौके: रिपोर्ट

Sep 23, 2017
PM मोदी के कार्यकाल में 60% घट गए नई नौकरियों के मौके: रिपोर्ट

मोदी सरकार नई नौकरियां पैदा करने में बूरी तरह से नाकाम हो चुकी है। इस की कहानी लेबर मिनिस्ट्री की एक रिपोर्ट बयान कर रही है। कि जितनी नई नौकरियां 2014 में मार्केट में पैदा हुई थीं। उसकी तुलना में साल 2016 में 60 फीसदी से कम रोजगार के नए अवसर पैदा हुए हैं।

बता दें कि रिपोर्ट के अनुसार, मोदी सरकार के कार्यकाल में रोज़गार सृजन में 60 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है। क्योंकि जितनी नई नौकरियां साल 2014 में मार्केट में पैदा हुई थीं। उसके मुकाबले साल 2016 में 60 फीसदी से ज्यादा की कमी दर्ज की गई है। आपको याद दिला दें कि पीएम मोदी ने देश के लोगों से वादा किया था कि उनकी सरकार इस तरह की पॉलिसी बना कर मार्किट में लाएगी जिस से हर साल करीब 2 करोड़ नए जॉब्स मार्केट में लोगों को मिलेंगे। लेकिन ये रिपोर्ट के आंकड़े तो कुछ और ही कहानी बयान कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें :-  बाल विवाह की शिकार 40 फीसदी लड़कियां पश्चिम बंगाल से हैं : सर्वे

अगर इन आंकड़ों की मानें तो साल 2014 में मार्केट में 4.21 लाख नई नौकरियां पैदा हुई थीं। लेकिन साल 2015 में सिर्फ और सिर्फ 1.35 लाख नई नौकरियां मार्केट में आईं। इसी तरह का हाल 2016 में भी रहा जहाँ कमोबेश 1.35 लाख नई नौकरियां के अवसर पैदा हुए। इस मुद्दे पर अर्थशास्त्री सारथी आचार्य का कहना है कि नई नौकरियों में गिरावट आने का सबसे बड़ा कारण मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर ग्रोथ में तेज गिरावट है। पिछले 3 साल में मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 10 से घट कर एक प्रतिशत रह गई है। इसका कारण है कि मार्केट में डिमांड नहीं है। जब डिमांड नहीं है तो इसका मतलब है कि खरीददारी नहीं हो रही है। ऐसे में कंपनियां को उत्पादन कम करना होगा। जब उत्पादन कम होगा तो फिर किस तरह से मार्केट में नए जॉब्स आएंगे।

ये भी पढ़ें :-  मोदी सरकार का नए नोटों पर 'स्वच्छ भारत' का लोगो क्यों, RBI ने जवाब देने से किया इनकार

इन आंकड़ों के सामने आने के बाद अब मोदी सरकार की स्किल डिवेलपमेंट स्कीम पर सवाल उठने लगे हैं। जिसके जरिए देश में बड़े पैमाने पर जॉब मिलने की उम्मीद थी। जहाँ बीते 3 साल में 30 लाख से अधिक नौजवानों को इस स्कीम के तहत ट्रेनिंग मिली थी। लेकिन जॉब तीन लाख से भी कम लोगों को मिली। जबकि सरकार ने इस स्कीम के लिए 12 हज़ार करोड़ का बजट अलॉट किया है।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>