दिल्ली के स्कूलों को सौर ऊर्जा से रोशन करने की योजना

Jul 13, 2017
दिल्ली के स्कूलों को सौर ऊर्जा से रोशन करने की योजना

दिल्ली के सरकारी स्कूल जल्द ही सौर ऊर्जा की रोशनी से जगमग हो सकते हैं, क्योंकि दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार सभी सरकारी स्कूलों की इमारतों की छतों पर फोटो वोल्टाइक पैनल स्थापित करने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है।

यह कदम दिल्ली सरकार के राष्ट्रीय राजधानी को सोलर सिटी बनाने वाले प्रमुख कार्यक्रम को गति देगा। राज्य सरकार की सौर नीति में 2015 तक सौर ऊर्जा के जरिए 2,000 मेगावाट बिजली पैदा करने का लक्ष्य है।

अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली के स्कूलों को सौर ऊर्जा से रोशन करने का प्रस्ताव तैयार है और इस पर जल्दी ही क्रियान्वयन हो सकता है।

ये भी पढ़ें :-  मोदी सरकार की नीतियों से बर्बाद हुए बैंक, इन दिनों होंगे सभी बैंक एक साथ बंद

दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर आईएएनएस से कहा, “शुरुआती चरण में अगले कुछ महीनों में सोलर पैनलों को शहर के 25 से 30 स्कूलों के भवनों पर लगाया जाएगा।”

अधिकारी ने कहा, “इस तरीके से शुरू में सरकार की नजर 20 से 30 मेगावाट सौर ऊर्जा पैदा करने पर है। इस परियोजना के सफलतापूर्वक क्रियान्वयन के बाद सरकार इसे और आगे बढ़ाएगी।”

उन्होंने कहा कि सरकार इस कोशिश में है कि स्कूलों की इमारतों का अधिक से अधिक इस्तेमाल सौर बिजली पैदा करने में किया जा सके और इन भवनों को ग्रीन बिल्डिंग में बदला जा सके।

ये भी पढ़ें :-  बक़रीद पर जानवरों की क़ुरबानी बेख़ौफ़ होकर करें मुसलमान: मौलाना अरशद मदनी

सरकारी स्कूल के भवनों को लक्ष्य बनाने की व्याख्या करते हुए अधिकारी ने कहा कि इस तरह की संरचनाएं सौर बिजली के लिए बेहतरीन हैं, क्योंकि यह छायामुक्त हैं।

उन्होंने कहा, “ज्यादातर सरकारी स्कूलों की इमारतें विशाल समतल छतों वाली हैं और इनकी कोई दीवार नहीं है, जो बड़ा छायामुक्त क्षेत्र प्रदान करता है और सोलर पैनलों को सूर्य के अधिकतम प्रकाश का लाभ मिलता है। यह स्थिति सौर ऊर्जा के उत्पादन के अनुकूल है।”

उन्होंने स्पष्ट किया कि आवासीय भवनों में दीवार, पानी की टंकी व छत पर दूसरे निर्माण की वजह से बहुत कम छायामुक्त क्षेत्र बचता है।

ये भी पढ़ें :-  मुझे बेबुनियाद तौर पर फंसाया जा रहा है, मेरी कोई गलती नहीं: डॉ कफील खान

दिल्ली की सौर नीति के अनुसार, सरकारी व सार्वजनिक संस्थानों पर सोलर पैनल लगाया जाना अनिवार्य है।

नीति के अनुसार, सरकारी या सार्वजनिक क्षेत्र के भवन शहर की कुल सौर क्षमता का एक चौथाई हिस्सा हैं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>