तस्वीरें: यहां हुआ था 20 लाख महिलाओं से रेप, 4 लाख बच्चे अपने पिता को ही नहीं जानते

Jul 17, 2017
तस्वीरें: यहां हुआ था 20 लाख महिलाओं से रेप, 4 लाख बच्चे अपने पिता को ही नहीं जानते

सेकंड वर्ल्ड वॉर (WW2) को भला कौन भूल सकता है। 1 सितंबर 1939 से लेकर 2 सितंबर 1945 तक जारी इस वॉर के दौरान हिटलर की नाजी सेना दुनिया के कई देशों में जमकर तबाही मचाई थी। जो अभी तक का सबसे विनाशकारी युद्ध माना जाता है। जहाँ जर्मनी को इस जंग में भरी कीमत चुकानी पड़ी थी। क्योंकि 1944 में सोवियत, अमेरिकी, ब्रिटिश और फ्रेंच की सेनाओं ने जर्मनी के कई इलाकों पर झंडा गाड़ दिया था। इस बीच लाखों महिलाओं और बच्चियों का रेप किया गया था। जहा आज भी 4 लाख बच्चे ऐसे हैं जिनको अपने पिता के बारे में कुछ भी नहीं पता है।

ये भी पढ़ें :-  क्लिक करें ये ऑप्शन, फिर बिना इंटरनेट चलेगा आपका WhatsApp, जानिए

आप को बता दें कि इस बात का खुलासा 2015 में पब्लिश हुई किताब ‘Bastards! The children of occupation in Germany after 1945’ में किया गया है। जिसके लेखक सिल्के सत्जोकोव और प्रोफेसर रेनर ग्रिस हैं। इस किताब में सेकंड वर्ल्ड वॉर (WW2) के बाद के हालात पर चर्चा किया गया है। इस बताया गया है कि (1944-45) में जर्मनी पर चार देशों (सोवियत, अमेरिकी, ब्रिटिश और फ्रेंच) की एलाइड सैन्य टुकड़ियों का नियंत्रण था। जहाँ इन देशों की सेना ने न सिर्फ लोगों की जानें ली। बल्कि वहां लूटपाट भी की, और इतना ही नहीं वहां की लाखों जर्मन लड़कियों और महिलाओं का रेप किया, जिसके बाद वहां की महिलाओं को नाजायज बच्चे पैदा हुए। जिन की संख्या करीब 20 लाख महिलाएं और बच्चियां हैं। जो रेप का शिकार होकर मां बनीं। और ऐसे कई बच्चों से पता चला कि उनकी मां को उनके पिता के बारे में कुछ भी पता नहीं, क्योंकि उनको विदेशी सैनिकों ने अपनी होश का शिकार हुई थीं।

ये भी पढ़ें :-  केरल: एक परिवार ने जिंदा होने की उम्मीद में शव को तीन महीने तक संभालकर रखा, और चौथा महीना लगते ही शव

सेकंड वर्ल्ड वॉर (WW2) के खत्म होने के बाद ही सेनाएं अपने-अपने देश को वापस लौट गई थीं लेकिन उनके किये हुए कारनामों के निशान बाकि रह गए थे। उस वक्त जन्म लेने वाले लाखों बच्चों ने पूरे जीवन सामाजिक भेदभाव का सामना करना पड़ा। इस की वजह से कई बच्चों ने अपने पिता की तलाश करने की कोशिश भी। स्टडी में ये बात भी सामने आई है कि करीब तीन लाख बच्चे सिर्फ सोवियत संघ की रेड आर्मी के सैनिकों के थे। जहाँ हजारों महिलाओं ने सोवियत यूनियन के सैनिकों के इस जुल्म से बचने के लिए अपने पूरे परिवार के साथ सुसाइड कर लिया था। रिसर्च में यह भी सच्चाई सामने आई कि इस बीच कई मामलों में जर्मन महिलाओं के विदेशी सैनिकों के साथ प्रेम संबंध भी बन गए थे। जिसके नतीजे में कई बच्चे पैदा हो गए।

ये भी पढ़ें :-  भारत में घरेलू नौकर होते दुर्व्यवहार के शिकार

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>