पेटीएम को लगी 6.15 लाख की चपत, हो गया सीबीआई में मामला दर्ज

Dec 17, 2016
पेटीएम को लगी 6.15 लाख की चपत, हो गया सीबीआई में मामला दर्ज

सरकार के नोटबंदी के फैसले बाद जब लोग परेशान हो गए तो उन्होंने ई-वॉलेट का विकल्प अपनाया। हर रोज पेटीएम से हजारों लोग जुड़ने लगे, जिसमें आम लोगों के साथ छोटे दुकानदार भी शामिल हैं। पेटीएम देश की सबसे बड़ी मोबाइल वॉलेट कंपनी है और इसके पास 15 करोड़ से ज्यादा एक्टिव ग्राहक हैं। लेकिन अब ये दुकानदार परेशान हैं। कभी इनके पैसे फंस जा रहे हैं तो कभी सप्लायर पेटीएम से भुगतान लेने से मना कर देता है। बुधवार को कुछ देर के लिए पेटीएम का सर्वर डाउन रहा, जिसके चलते लोगों को भुगतान लेने में दिक्कतें रही और अब पेटीएम ने अपने साथ धोखाधड़ी का दावा किया है। लेकिन अजीब बात यह है कि किसी कंपनी की शिकायत पर ही सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है। आमतौर पर वह केंद्र सरकार, उच्च्तम न्यायालय या किसी उच्च न्यायालय के निर्देश पर ही मामला दर्ज करती है। सीबीआई ने दिल्ली के कालकाजी, गोविंदपुरी व साकेत में रहने वाले 15 ग्राहकों तथा पेटीएम की पुरानी कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। वैसे देखा जाये तो कंपनी किसी ग्राहक को मिले खराब प्रोडक्ट के लिए लिए भुगतान करती है और खराब प्रोडक्ट को मंगवाकर वापस मर्चेंट के पास भेजती है। यह काम कंपनी के कुछ चुनिंदा ग्राहक सेवा अधिकारियों द्वारा किया जाता है। शिकायत के अनुसार 48 मामलों में पाया गया कि ग्राहकों को सामान भी मिल चूका है। और उन्हें रिफंड किया गया है। कंपनी को लगता है कि इसमें गड़बड़ है और जानबूझकर ऐसा कर कंपनी को नुकसान पहुंचाया गया है।

ये भी पढ़ें :-  संगीत सोम पर भड़के आजम खान- बोले, ताजमहल ही क्यों? संसद और राष्ट्रपति भवन को भी गिरा देना चाहिए

अभी हाल ही में चिपसेट मेकर कंपनी क्वालकॉम ने कहा था कि भारत में कोई भी मोबाइल ऐप सुरक्षित नहीं है। कंपनी का कहना है कि भारत में कोई भी ई-वॉलेट और मोबाइल बैंकिंग ऐप्लिकेशन हार्डवेयर लेवल सिक्योरिटी का इस्तेमाल नहीं करता है जिससे ऑनलाइन लेन-देन को अधिक सुरक्षित रखा जा सके।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>