आनंदीबेन का इस्तीफा मंजूर, शाह नहीं होंगे गुजरात के CM: वेंकैया नायडू

Aug 03, 2016

भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में बुधवार को गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के इस्तीफे की पेशकश स्वीकार कर ली गई.

बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि पार्टी ने गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल का पद छोड़ने का फैसला स्वीकार कर लिया है, वह राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौपेंगी.

उन्होंने कहा कि बैठक में हमने सिर्फ आनंदीबेन के काम और विकास कार्यों पर चर्चा की. उन्होंने एक बड़ा उदाहरण सेट किया है.

गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के लिए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के नाम की अटकलों को खारिज करते हुए नायडू ने कहा कि शाह राष्ट्रीय नेता हैं और वह सीएम रेस में शामिल नहीं हैं. पार्टी को उनकी राष्ट्रीय स्तर पर जरूरत है.

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगला मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फैसला गुजरात के विधायक करेंगे.

उन्होंने कहा कि अगले मुख्यमंत्री के नाम पर फैसले के लिए होने वाली भाजपा के विधायक दल की बैठक में नितिन गडकरी और सरोज पांडे केंद्रीय पर्यवेक्षक होंगे. इस मौके पर शाह भी मौजूद रहेंगे. भाजपा संसदीय बोर्ड ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को विधायक दल की बैठक में भावी मुख्यमंत्री चुनने की जिम्मेदारी दी है.

भाजपा के सूत्रों ने बताया कि आनंदीबेन पटेल का उत्तराधिकारी एक सप्ताह के भीतर पदभार संभाल लेगा. गुजरात लंबे समय से भाजपा का गढ़ रहा है लेकिन पार्टी राजनीतिक रूप से प्रभावशाली पटेलों के आरक्षण आंदोलन और वर्तमान में दलित आंदोलन को लेकर गंभीर चुनौतियों का सामना कर रही है.

भाजपा के शीर्ष सूत्र गुजरात की पहली महिला मुख्यमंत्री के उत्तराधिकारी के बारे में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं लेकिन राज्य मंत्रिमंडल में नम्बर दो नितिन पटेल और गुजरात भाजपा प्रमुख विजय रूपानी को इसके प्रमुख दावेदार के तौर पर देखा जा रहा है.

नितिन पटेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विश्वासपात्र हैं. गुजरात में मोदी के मुख्यमंत्रित्व काल में पटेल मंत्री के तौर पर काम कर चुके हैं तथा प्रभावशाली पाटीदार समुदाय से आते हैं. पाटीदार समुदाय पारंपरिक रूप से भाजपा समर्थक रहा है. यद्यपि पाटीदार समुदाय अपने आरक्षण आंदोलन से निपटने के तरीके को लेकर भाजपा से नाराज है.

रूपानी शाह के विश्वासपात्र हैं और उन्हें पार्टी के भीतर भी समर्थन हासिल है. यद्यपि वह जैन समुदाय से आते हैं और यह समुदाय गुजरात में संख्यानुसार बहुत कम है.

केंद्रीय मंत्री और जमीनी स्तर के नेता पुरूषोत्तम रूपाला और प्रदेश पार्टी महासचिव भीखूभाई दलसाणिया को भी मु़ख्यमंत्री पद के दावेदारों के तौर पर देखा जा रहा है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>