पर्रिकर, वायुसेना प्रमुख ने महिलाओं की भूमिका की प्रशंसा की

Mar 08, 2016

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने उन महिलाओं को याद किया जिन्होंने उनकी जिंदगी की अमिट छाप छोड़ी और महिला दिवस के अवसर पर उन्होंने रक्षा बलों में महिलाओं की भूमिका की प्रशंसा की.

पर्रिकर ने कहा कि जब वह छोटे थे तो उनकी मां ने कई सबक सिखाए और उस उम्र में उन्हें समझना कठिन था लेकिन बाद में उन्होंने महसूस किया कि वे कितने उपयोगी थे.
    
पर्रिकर ने कहा, ‘‘मैं अब भी याद करता हूं कि जब मैं छोटा था तो मेरी मां ने क्या कहा था. यह मेरी शिक्षा, उद्यमी और नेता के तौर पर मेरे कॅरियर के दौरान याद रहा.’’
    
उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने मुझसे कहा कि अगर हम एक दूसरे से सहमत हों तो वस्तुत: इमली के पत्ते के बराबर जगह में रह सकते हैं. मैं उसे नहीं समझ सका क्योंकि इमली का पत्ता दो से चार मिमी लंबा होता है. लेकिन निष्कर्ष यह था कि अगर दो लोग विचारों और भावनाओं में एकरूप हों तो कम जगह में ही आपका काम चल सकता है.’’
    
रक्षा मंत्री ‘सशस्त्र मेडिकल कोर में महिलाएं’ पर आयोजित सेमिनार में बोल रहे थे जिसका आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर किया गया था. सेमिनार में राहा भी मौजूद थे.
    
पर्रिकर ने एक घटना को याद किया कि गोवा में वह छात्रों को छात्रवृत्ति देने गए थे जहां 25 में से 21 महिलाएं थीं.
    
उन्होंने कहा, ‘‘आज की महिलाओं को न केवल अपने कॅरियर में योगदान देना होता है बल्कि घर में भी योगदान करना होता है.’’
    
वायुसेना प्रमुख ने एक घटना को याद करते हुए कहा कि जब वह प्रशिक्षण के दौर में थे तो उनका विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया क्योंकि इंजन ने काम करना बंद कर दिया.
    
राहा ने कहा, ‘‘हम दोनों बाहर आ गए. मुझे कम चोट आयी लेकिन मेरे इंस्ट्रक्टर को ज्यादा चोट आई थी. मैं 15 से 20 दिन अस्पताल में रहा और इंस्ट्रक्टर थोड़ा लंबे समय तक रहे.’’
    
उन्होंने सशस्त्र बलों में खासकर उसकी चिकित्सा शाखा में महिलाओं की भूमिका की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘इस दौरान एक महिला चिकित्सक ने हमारी अच्छी देखभाल की जिससे हम दोनों तेजी से ठीक हो गए. नर्सों ने भी हमारी काफी देखभाल की.’’

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>