पानीपत बम बलास्ट: अब्दुल करीम टुंडा को पानीपत कोर्ट ने बाइज्जत बरी किया

Dec 02, 2016
पानीपत बम बलास्ट: अब्दुल करीम टुंडा को पानीपत कोर्ट ने बाइज्जत बरी किया

पानीपत कोर्ट ने अब्दुल करीम टुंडा को 1 दिसंबर को रिहा कर दिया। गौरतलब कि 1 फरवरी 1997 को पानीपत बस अड्डे पर कालखा-लुहारी जा रही सहकारी समिति की एक बस में बम ब्लास्ट में माडू नामक 10 साल के लड़के की मौत हो गई थी और करीब 20 लोग घायल हो गए थे। इस बम ब्लास्ट में लश्कर से जुड़े अब्दुल करीम उर्फ टुंडा का हाथ बताया गया था। इसके अलावा उस पर देश के विभिन्न हिस्सों में बम ब्लास्ट में संलिप्तता समेत 37 मुकदमे दर्ज हैं। कई मामलों में लिप्त होने के चलते देश की अनेक सुरक्षा एजेंसियां इसकी तलाश में थी। आखिरकार दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने अब्दुल करीम उर्फ टुंडा को 2013 में नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार किया और इसके बाद से वह डासना जेल में बंद था।

टुंडा के वकील सुल्तान सिंह खर्ब को पहले ही टुंडा के बरी होने की आस थी। मंगलवार को सुनवाई के वक्त खर्ब ने दावा किया था कि कोर्ट 1 दिसंबर को टुंडा को बरी कर सकती है। बम ब्लास्ट के मामले में अब तक न तो कोई गवाह और न ही सबूत अदालत के सामने आया है। कोर्ट ने मंगलवार को इस मामले में फैसला सुरक्षित रखते हुए टुंडा को करनाल जेल में भेज दिया था और गुरुवार को फिर से सुनवाई तय की थी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>