पाक की कूटनीतिक प्रयासों से रूका भारत का NSG में प्रवेश: अजीज

Jun 28, 2016

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने दावा किया कि पाकिस्तान की गहन कूटनीतिक लाबिंग से भारत का परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में प्रवेश रूका.

इसमें शरीफ द्वारा अपने 17 समकक्षों को लिखे गए पत्र भी शामिल हैं.
अजीज ने कहा कि एनएसजी में प्रवेश पर पाकिस्तान के रूख के बारे में विश्व के नेताओं को सूचित करने के लिए व्यस्त राजनीतिक प्रयास किये गए.
अजीज ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री शरीफ ने निजी तौर पर विभिन्न देशों के 17 प्रधानमंत्रियों को इस मामले पर पत्र लिखे जो रिकार्ड में हैं.’’
एनएसजी की पिछले सप्ताह आयोजित बैठक में समूह में भारत के प्रवेश पर आमसहमति नहीं बन पायी क्योंकि चीन सहित कुछ देशों ने इस पर आपत्ति जतायी कि एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने के कारण भारत सदस्यता के लिए पात्र नहीं है.
पाकिस्तान इसे सफलता बताकर ढिंढोरा पीट रहा है लेकिन इसका शायद ही कोई उल्लेख किया गया कि उसकी स्वयं की सदस्यता के लिए उसके आवेदन का क्या हुआ.
पाकिस्तान ने इस विचार को आगे बढ़ाने का प्रयास किया कि नये सदस्यों को प्रवेश देने के लिए भेदभावरहित दृष्टिकोण की जरूरत है.
भारत और पाकिस्तान एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं करने वाले दो देश हैं जो 48 सदस्यीय समूह की सदस्यता चाहते हैं.
अजीज ने साथ ही कहा कि सुरक्षा एजेंसियां गिरफ्तार कथित भारतीय जासूस कुलभषण जाधव के खिलाफ और सबूत जुटाने की प्रक्रिया में हैं. उन्होंने कहा कि जाधव के खिलाफ विधिक कार्यवाही जल्द शुरू होगी.
पाकिस्तान दावा करता है कि उसके सुरक्षा बलों ने जाधव को मार्च में बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था. पाकिस्तान का दावा है कि वह ‘‘भारतीय नौसेना का सेवारत अधिकारी’’ है. उसने जाधव पर देश में ‘‘विध्वंसकारी गतिविधियों’’ की योजना बनाने का आरोप लगाया है.
भारत ने यह स्वीकार किया है कि जाधव ने नौसेना में काम किया है लेकिन इससे इनकार किया है कि उसका सरकार से कोई संबंध है.
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>