पाकिस्तान से अब केवल पीओके पर होगी बात: राजनाथ

Aug 11, 2016

भारत के गृहमंत्री राजनाथ ने सीधे तौर पर पाकिस्तान को दो टूक शब्दों में कहा कि अब पाकिस्तान के साथ जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर नहीं, केवल पाक अधिकृत कश्मीर पर ही बातचीत की जाएगी.

जम्मू कश्मीर में जारी हिंसा और अशांति के लिए राजनाथ ने बुधवार को सीधे तौर पर पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराते हुए दो टूक शब्दों में कहा कि दुनिया की कोई ताकत जम्मू कश्मीर को भारत से अलग नहीं कर सकती. अब पड़ोसी देश के साथ जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर नहीं, केवल पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) पर ही बातचीत की जाएगी. उन्होंने यह भी घोषणा की कि जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर 12 अगस्त को एक सर्वदलीय बैठक बुलाई गई है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी भाग लेंगे.

सदन का संकल्प

गृहमंत्री के जवाब के बाद सदन ने एक संकल्प को सर्वसम्मति से पारित किया. इसमें कहा गया है कि यह सदन कश्मीर घाटी में लंबी अशांति, हिंसा एवं कर्फ्यू पर गहरी चिंता व्यक्त करता है.

सदन बिगड़ती स्थिति के कारण लोगों की जान जानें और गंभीर रूप से घायल होने पर गहरा क्षोभ एवं चिंता जताता है.

सदन का यह दृढ़ एवं सुविचारित मत है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता तथा लोगों की कठिनाइयों को दूर करने के मकसद से शांति एवं व्यवस्था कायम करने के लिए फौरन कदम उठाए जाने की जरूरत है.

 

सदन जम्मू कश्मीर में समाज के सभी वर्गों से सामान्य स्थिति एवं सौहार्द बहाल करने के लिए गंभीर अपील करता है.

राजनाथ की खरी-खरी
►जम्मू कश्मीर में जो कुछ हो रहा है, उसे पाकिस्तान कर रहा है प्रायोजित
►नवाज शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र प्रमुख को पत्र लिखकर जम्मू कश्मीर पर जनमत संग्रह कराए जाने की मांग की है. पाकिस्तान को यह नहीं भूलना चाहिए कि जम्मू कश्मीर का कहीं और से हल नहीं निकल सकता है.
► कश्मीर में आईएसआईएस के झंडे लहराये जाने और पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने की घटनाओं को किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा
► आईएसआईएस इस्लाम में यकीन रखने वालों का ही सर कलम कर रहा है. इस्लाम कभी इस बात की इजाजत नहीं देता कि किसी के सर को कलम किया जाए.
►‘पैलेट गन’ के इस्तेमाल को लेकर सुरक्षा बलों को पहले ही यह निर्देश दे दिया गया है कि वे अधिकतम संयम से काम लें. हमें जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों की समस्याओं को भी समझना होगा.
►लश्कर-ए-तय्यबा के लोगों ने सुरक्षा अधिकारियों के परिवारों को दी है धमकी
► जम्मू कश्मीर में हिसा के चलते अब तक 4515 सुरक्षाकर्मी और 3,356 नागरिक घायल हुए हैं.
► पूरी कश्मीर घाटी में कर्फ्यू लगे होने की बात गलत है. कुछ जिलों में कुछ समय के लिए कर्फ्यू को उठाया जाता है.
► राज्य सरकार इस बात का पूरा प्रयास कर रही है कि कर्फ्यू के कारण लोगों को आवश्यक सामान की आपूर्ति में कोई दिक्कत नहीं हो.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>