पाकिस्तान सुरक्षा ‘दुखद स्थिति’ के चलते चीन के लिए खास है श्रीलंका : मीडिया

Apr 08, 2016

चीन के सरकारी मीडिया ने गुरुवार को कहा है कि हिंद महासागर में चीन के रणनीतिक हितों के लिहाज से श्रीलंका बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि पाकिस्तान सुरक्षा की अपनी ‘दुखद स्थिति’ के चलते मजबूत आधार उपलब्ध नहीं करवा सकता.

यह पहली बार है जब चीनी मीडिया ने इस संदर्भ में बीजिंग की चिंताओं को व्यक्त किया है.

सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने श्रीलंकाई प्रधानमंत्री रानिल विक्रमासिंघे की चीन यात्रा के परिप्रेक्ष्य में प्रकाशित दो लेखों में से एक में लिखा है, ”इस समय, चीन के वित्तपोषण से पाकिस्तान में बनने वाले प्रतिष्ठान चीन को एक मजबूत आधार नहीं दे सकते क्योंकि पाकिस्तान की सुरक्षा की स्थिति दुखद है.”

अखबार ने कहा, ”हिंद महासागर में सुरक्षा संबंधी रणनीतिक व्यवस्था के लिहाज से श्रीलंका चीन के लिए बेहद महत्वपूर्ण हो सकता है. यह पास के नौवहन मार्गों’ के लिए न सिर्फ सुरक्षा आश्वासन देगा बल्कि यह 21वीं सदी के समुद्री रेशम मार्ग (एमएसआर) को भी प्रोत्साहन देगा.”

भारत ने अब तक इस मार्ग का समर्थन नहीं किया है क्योंकि उसे चिंता है कि इसके चलते चीन हिंद महासागर में हावी हो सकता है.

एक आधिकारिक थिंक टैंक द्वारा लिखे गये रिपोर्ट में बंदरगाह शहर परियोजना को आगे बढ़ाने को लेकर श्रीलंका की दुविधा को भी रेखांकित किया गया है.

इसी अखबार में पाकिस्तान के योजना, सुधार और विकास मंत्री अहसान इकबाल के साक्षात्कार के आधार पर प्रकाशित रिपोर्ट में 46 अरब अमेरिकी डॉलर के चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीईपीसी) को ध्यान में रखते हुए इसके प्रभाव पर बीजिंग और इस्लामाबाद की चिंताओं को दर्शाया गया है. इसमें पाकिस्तान के हालात को ध्यान में रखा गया है, जहां देश में पैदा हुए समूहों द्वारा बार-बार आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है. इकबाल सीईपीसी के कार्यान्वयन के प्रभारी भी हैं.

इसमें कहा गया है कि हमेशा की दोस्ती और मजबूत भाईचारा होने के बावजूद दोनों देशों के रिश्ते आर्थिक लिहाज से उस स्तर के नहीं हैं. पत्र में उदाहरण के साथ कहा गया है कि पाकिस्तान में सीधे निवेश करने वाले देशों में चीन का स्थान 16वां हैं.

अखबार ने साथ ही लिखा है कि सीईपीसी को 2025 तक पूरा होना है और इससे चीनी निवेश की इस कमी की भरपाई हो सकेगी.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>