पाक के पूर्व PM यूसुफ रजा गिलानी के पुत्र अली हैदर गिलानी लाहौर पहुंच गए

May 12, 2016

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी के पुत्र अली हैदर गिलानी लाहौर पहुंच गए हैं.

मंगलवार को उन्हें अमेरिका और अफगान बलों ने तालिबान आतंकवादियों के चंगुल से मुक्त कराया था. तालिबान ने नौ मई 2013 को उनका अपहरण कर लिया था और वह तीन साल से इस आतंकी संगठन के चंगुल में थे.
इस्लामाबाद ने मंगलवार को कहा कि अमेरिकी और अफगान सुरक्षाबलों ने अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में एक संयुक्त विशेष अभियान में हैदर को मुक्त करा लिया.
पाकिस्तान के विदेश विभाग ने बताया कि प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हैदर को काबुल से लाने के लिए एक विशेष विमान भेजा.
स्थानीय मीडिया ने खबर दी कि विमान बुधवार को लाहौर हवाईअड्डे पर उतरा जहां हैदर के परिवार के सदस्य और करीबी रिश्तेदार उनकी अगवानी करने के लिए मौजूद थे.
इससे पहले काबुल में पाकिस्तान के राजदूत अबरार हुसैन ने अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय में सुबह करीब 10 बजे हैदर की अगवानी की और उसके बाद उन्हें लाहौर भेजने के लिए हेलीकॉप्टर से हवाईअड्डे ले जाया गया.
विदेश विभाग ने कहा कि पाकिस्तान का नेतृत्व हैदर को सकुशल बरामद करने और उनकी तत्काल पाकिस्तान वापसी के इंतजाम करने के लिए अफगान नेशनल आर्मी और नाटो बलों के सफल प्रयासों की प्रशंसा करता है.
इसने कहा, ‘‘पाकिस्तान उम्मीद करता है कि तीनों देश क्षेत्र से आतंकवाद को कम करने और उखाड़ फेंकने के लिए मिलकर काम कर सकते हैं. आतंकवादियों को सरकारों को बंधक बनाने की अनुमति नहीं दी जा सकती.’’
इस बीच, हैदर के बड़े भाई अब्दुल कादिर गिलानी ने इन खबरों को खारिज किया कि उनके भाई को फिरौती दिए जाने के बाद छोड़ा गया है.
हैदर को मुक्त कराया जाना हाई प्रोफाइल अपहरण मामले में दूसरा सफल नाटकीय उदाहरण है. इससे पहले पंजाब के दिवंगत गवर्नर सलमान तासीर के पुत्र शाहबाज मार्च में पाए गए थे. वर्ष 2011 में उनका अपहरण कर लिया गया था और वह करीब पांच साल से आतंकियों के कब्जे में थे.
पाकिस्तान में 11 मई 2013 को आम चुनाव से महज दो दिन पहले मुल्तान से हैदर का अपहरण कर लिया गया था. वह इस चुनाव में उम्मीदवार थे.
यूसुफ रजा गिलानी 2008 से 2012 तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे. पिछले साल उन्होंने कहा था कि अपहर्ताओं ने उनसे संपर्क किया था और उनके पुत्र की रिहाई के बदले फिरौती मांगी थी.
पिछले साल एक वीडियो संदेश में हैदर ने कहा था कि अपहर्ता शुरू में उनकी रिहाई के लिए दो अरब रूपये मांग रहे थे, लेकिन बाद में उन्होंने इसे घटाकर 50 करोड़ रूपये कर दिया, जबकि उनके पिता ने कहा था कि वह फिरौती की राशि देने को तैयार हैं.
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>