पाक और चीन के गठजोड़ से मिली असफलता को मोदी की विदेश नीति की विफलता बताया: कांग्रेस

Apr 02, 2016

कांग्रेस ने संयुक्त राष्ट्र संघ में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने के भारत के प्रस्ताव के खिलाफ पाकिस्तान और चीन के गठजोड़ से मिली असफलता को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विदेश नीति की विफलता बताया है.

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मूसद और उसके आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने वाले प्रस्ताव के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान के सहयोग से अपनी शक्ति का इस्तेमाल किया है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री गुजरात में झूला कार्यक्रम आयोजित करके चीन के राष्ट्रपति के साथ अपनी घनिष्ठता का दावा करते रहे हैं और अफगानिस्तान से लौटते समय अचानक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के घर जाकर एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए परस्पर गहरे संबंधों की बात करते हैं लेकिन इन दोनों देशों का गठबंधन संयुक्त राष्ट्र में जिस तरह से भारत के खिलाफ सामने आया उससे पूरा देश हतप्रभ है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भारत के इस प्रस्ताव को चीन द्वारा एकतरफा ब्लॉक किए जाने से साबित होता है कि श्री मोदी विदेश नीति के स्तर पर कमजोर हैं और वह विदेशी नेताओं के साथ मुलाकात को सिर्फ फोटो खिंचवाने का एक मौका मानते हैं.

श्री सिंघवी ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति के साथ गुजरात में ‘झूला कार्यक्रम’ और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के घर पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के श्री मोदी के कार्यक्रम को उन्होंने महज फोटो खिंचवाने का एक अवसर करार दिया और कहा कि इस मुद्दे पर भारत के साथ पूरी दुनिया की भावना होने के बावजूद यह प्रस्ताव उस चीन और पाकिस्तान के कारण पारित नहीं हो सका जिनके नेताओं के साथ प्रधानमंत्री अपनी घनिष्ठता का दावा करते हैं. उन्होंने कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र में मोदी सरकार की विदेश नीति की सबसे बड़ी असफलता है.

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र में मसूद अजहर तथा उसके संगठन पर प्रतिबंध लगाने का भारत का प्रस्ताव अकेले चीन द्वारा रोके जाने के कारण गुरुवार को पारित नहीं हो सका जबकि अमेरिका, ब्रिटेन तथा फ्रांस सहित कई देशों ने भारत के प्रस्ताव का समर्थन किया था.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान तथा चीन के गठजोड़ से एक खूंखार आतंकवादी के प्रतिबंधित नहीं होने से भारतीय सुरक्षा तंत्र को गहरा आघात लगा है. उन्होंने कहा कि इस दिशा में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार ने जो प्रयास किया था उसे भी गहरा धक्का लगा है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि एक तरफ पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र में भारत के खिलाफ साजिश करता है और दूसरी तरफ देश में पाकिस्तानी जांच दल को आतंकवादी हमले की जांच के लिए पठानकोट आकर सेना के महत्वपूर्ण केंद्र तक जाने की अनुमति दी जाती है. इस दल में भारत में आतंकवाद फैलाने वाले पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एक सदस्य भी शामिल है.

उन्होंने कहा कि इस दल से जो उम्मीद की जा रही थी उसी तरह की खबरें आना शुरू हो गयी है. प्रवक्ता ने कहा कि विसनीय रिपोर्ट के अनुसार पठानकोट में जांच के लिए आए पाकिस्तान दल ने अपनी जांच में इस घटना में मसूद अजहर तथा उसके आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के शामिल होने के कोई सबूत नहीं पाए है जबकि पूरी दुनिया को मालूम है कि इस घटना में पाकिस्तानी आतंकवादियों का हाथ है.

श्री सिंघवी ने कहा कि  एक तरफ पाकिस्तान जांच एजेंसी भारत में आकर जांच कर रही है तो दूसरी तरफ भारतीय सेना के एक पूर्व अधिकारी के जाधव को पाकिस्तान में आतंक फैलाने वाले भारतीय आतंकवादी की तरह खुफिया एजेंसी आईएसआई के समक्ष पेश किया जा रहा है.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>