स्वामी के तैयार हिटलिस्ट में से और एक नाम उजागर, निशाने पर आर्थिक मामलों के सचिव शशिकांत दास

Jun 24, 2016

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक हिटलिस्ट तैयार कर रखी है। जिसमें 27 लोगों के नाम हैं। रघुराम राजन और अरविंद सुब्रमण्यन के बाद अब स्वामी ने इकोनॉमिक अफेयर्स सेक्रेटरी शक्तिकांत दास को निशाना बनाया है!

कांग्रेस की राह में कांटे बिछाने वाले विवादास्पद नेता सुब्रमण्यम स्वामी को बीजेपी लाल गलीचे बिछाकर राज्यसभा लाई। लेकिन स्वामी अब अपने तेवर उसी को दिखाने लगे हैं। पहले आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन फिर मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन के बाद अब वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास सुब्रमण्यम स्वामी का अगला निशाना हैं।

रघुराम राजन और अरविन्द सुब्रमण्यन को पद से हटाने की मांग कर चुके स्वामी ने शक्तिकांत दास पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा दिए। स्वामी ने एक ट्वीट के जवाब में लिखा कि मुझे लगता है कि महाबलीपुरम में जमीन हथियाने में पी चिदंबरम की मदद करने की वजह से शक्तिकांत दास के खिलाफ एक मामला लंबित है।

मोदी सरकार में आर्थिक मामलों से जुडे एक से एक बड़े अधिकारियों पर स्वामी के हमले वित्त मंत्री और बीजेपी को बर्दाश्त नहीं हो रहे। अरविंद सुब्रमण्यन की तरफदारी कर चुके चीन यात्रा पर गए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ट्वीट कर स्वामी को जवाब और अधिकारी का बचाव किया।

वित्त मंत्रालय के एक अनुशासित सिविल सेवा के अधिकारी पर गलत और झूठे इल्जाम लगाए गए हैं। वित्त मंत्री का जवाब आते ही बीजेपी ने भी स्वामी के बयान से पल्ला झ़ाड़ा लेकिन स्वामी तो स्वामी हैं।

दरअसल, रघुराम राजन के आरबीआई गवर्नर के पद छोड़ने के ऐलान के बाद अरविंद सुब्रमण्यन और शक्तिकांत दास का नाम अगले आरबीआई गवर्नर के संभावित लोगों में चर्चा में आने लगा और इसी वजह से स्वामी इन दो बड़े अधिकारियों के खिलाफ हो गए। जबकि, शक्तिकांत दास को मोदी सरकार ने वित्त मंत्रालय में हुए पहले बडे बदलाव में ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दे दी थी। ओडिशा के रहने वाले 1980 बैच के आईएएस अफसर शक्तिकांत दास को 12 साल का वित्त मंत्रालय में कामकाज का अनुभव है और उनकी आर्थिक मामलों की समझ को सब सलाम करते हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>