पाक से भारत ने कहा पीओके खाली करो

Jul 22, 2016

भारत ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद ‘भड़काने और सहयोग देने’ के लिए पाकिस्तान पर निशाना साधा.

उससे कहा कि वह पीओके पर अवैध कब्जा खाली करे. कश्मीर के हालात को लेकर पाकिस्तान में आयोजित हुईं भारत विरोधी रैलियों व दूसरे बयानों पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवाद को प्रोत्साहित और समर्थन करने की कड़ी र्भत्सना करता है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने यह भी कहा कि इस्लामाबाद में भारत के उच्चायोग के समक्ष मार्च और प्रदर्शनों से पैदा हुए खतरे को देखते हुए पाकिस्तान को भारतीय अधिकारियों एवं उनके परिवारों की पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए. उन्होंने कहा, ‘हमने पाकिस्तान और पीओके में बीते दो दिनों के दौरान जम्मू-कश्मीर के बारे में रैलियों, घटनाक्रमों और बयानों से जुड़ी खबरें देखी हैं.

ये भी पढ़ें :-  पन्नीरसेल्वम गुट ने शशिकला, दिनकरन को AIADMK पार्टी से निकाला

 

हमने संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकवादी घोषित उन लोगों की अगुवाई में हुए घटनाक्र मों का भी संज्ञान लिया है जिन्होंने अतीत में ओसामा बिन लादेन और तालिबान कमांडर अख्तर मंसूर के मारे जाने का भी विरोध किया था.’ स्वरूप ने कहा, ‘भारत उस प्रोत्साहन और समर्थन की कड़ी निंदा करता है जो इन आतंकवादियों एवं उनकी गतिविधियों को पाकिस्तान की शासन व्यवस्था से मिलता है.’

उन्होंने कहा, ‘हम फिर से पाकिस्तान से कहते हैं कि वह हमारे देश के किसी भी हिस्से में हिंसा एवं आतंकवाद भड़काना और सहयोग देना बंद करे. किसी भी तरह से हमारे आंतरिक मामलों में दखलअंदाजी करने से भी बाज आये.’

ये भी पढ़ें :-  कर्जमाफी के लिए यूपी में भाजपा सरकार बनाने की शर्त क्यों? : राहुल

प्रवक्ता ने कहा कि ‘पाकिस्तान में कश्मीर का विलय दिवस’ मनाया जाना जम्मू-कश्मीर के क्षेत्र के लिए पाकिस्तान की लालसा को दिखाता है. उन्होंने कहा, ‘भारत यह मांग करता है कि पाकिस्तान पीओके के अवैध कब्जे को खाली करने के अपने दायित्व को पूरा करे.’

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected