ऑपरेशन ‘संकट मोचन’: दक्षिण सूडान से 146 से अधिक भारतीय सुरक्षित निकाले गए

Jul 15, 2016

भारत ने गुरुवार को युद्ध प्रभावित दक्षिण सूडान की राजधानी शहर जुबा में फंसे अपने 146 से अधिक नागरिकों को निकाल लिया. ये सभी तिरूवनंतपुरम में पड़ाव के बाद कल दिल्ली पहुंच जाएंगे.

यद्यपि दक्षिण सूडान से भारतीयों को निकालने के अभियान में तब बाधा उत्पन्न हुई जब वहां से निकलने के लिए विदेश मंत्रालय के साथ पंजीकरण कराने वाले कई भारतीयों ने वापस लौटने से इनकार कर दिया. यद्यपि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके उनसे बाहर निकलने की अपील की थी. उन्होंने लिखा, ”यदि स्थिति बिगड़ी तो हम आपको नहीं निकाल पाएंगे.”

विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने ट्वीट किया, ”आपरेशन संकट मोचन खतरे के क्षेत्र से सुरक्षित रूप से बाहर. उड़ान यूगांडा के एंटेबे में तकनीकी रूप से रूकी.”

ये भी पढ़ें :-  लीक हो रहें है आपके सभी 'Mail' हो जाए सावधान, जल्द से जल्द करें ऐसा

अभी तत्काल यह पता नहीं चल पाया है कि दूसरे विमान में कितने भारतीय सवार हैं.

इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने संवाददाताओं से कहा कि उद्देश्य उन सभी भारतीयों को निकालना है जिन्होंने वहां से निकलने को लेकर अपनी रूचि दिखायी थी.

उन्होंने कहा, ”भारतीय को निकालने का अभियान स्थानीय प्रशासन के समन्वय के साथ ही यूएनएमआईएसएस स्थित भारतीय शांति टुकड़ी के सहयोग से तैयार किया गया था. सिंह ने वहां पहुंचते ही दक्षिण सूडान के विदेश मंत्री डेंग अलोर कुओल से मुलाकात की. उन्होंने उप राष्ट्रपति जेम्स वानी लग्गा से भी मुलाकात की.”

स्वरूप ने कहा कि दोनों विमान ईंधन भरने के लिए यूगांडा के एंटेबे में करीब तीन घंटे रूके. एंटेबे से ये विमान भारत के लिए रवाना होंगे. ये विमान सबसे पहले कल तडके तिरूवनंतपुरम में उतरेंगे और उसके बाद दिल्ली आएंगे.

ये भी पढ़ें :-  ट्रक और स्कूल बस की भीषण टक्कर, बच्चों के मरने की संख्या पहुँची 25

उन्होंने कहा, ”यह पूरा अभियान सुषमा स्वराज की सीधी निगरानी में हुआ जिन्होंने दक्षिण सूडान में स्थिति की निगरानी के लिए एक उच्च स्तरीय कार्यबल गठित किया था.

सरकार के अनुसार भारतीयों को निकालने के लिए यह सबसे उपयुक्त समय था क्योंकि अभी संघषर्विराम लागू है.

सिंह के साथ विदेश मंत्रालय के सचिव (आर्थिक संबंध) अमर सिन्हा, संयुक्त सचिव सतबीर सिंह और निदेशक अंजनि कुमार भी हैं.

मंत्रालय के अनुसार दक्षिण सूडान में करीब 600 भारतीय हैं जिसमें से 450 जुबा में और करीब 150 राजधानी के बाहर हैं.

दक्षिण सूडान पूर्व विद्रोहियों और सरकार के सैनिकों के बीच शहर के कई हिस्सों में भारी संघर्ष हो रहा है.

ये भी पढ़ें :-  ओलिंपिक पदक विजेता पहलवान को अखाड़े में बाबा रामदेव ने किया चित्त

 

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected