सिर्फ एक आदत ने बचाई इन्सान की जान, पढ़िये पुरा मामला

Jan 18, 2017
सिर्फ एक आदत ने बचाई इन्सान की जान, पढ़िये पुरा मामला

एक आदमी गोश्त को फ़्रीज करने वाली कम्पनी में काम करता था एक दिन कारखाना बन्द होने से पहले अकेला गोश्त को फ्रिज करने वाले कमरे का चक्कर लगाने गया तो गलती से दरवाजा बंद हो गया और वह अंदर बर्फ वाले हिस्से में फंस गया छुट्टी का वक़्त था और सब काम करने वाले लोग घरों को जा रहे थे कोई भी ध्यान नहीं दिया की कोई अंदर फंस गया है,

वह समझ गया की दो-तीन घंटे बाद उसका बदन बर्फ बन जाएगा अब जब मौत यकीनी नजर आने लगी तो खुदा को याद करने लगा अपने गुनाहों की माफी चाही और खुदा से कहा कि यूनुस अलैहीस्सलाम को मछली के पेट और यूसुफ अलैहिस्सलाम को जेल से नजात देने वाले अगर मैंने जिंदगी में कोई एक काम भी फकत तेरी खुशनूदी के लिए किया है

तो तू उसके सदके में मुझे इस कैद से रिहाई अता फरमा वादा करता हूं इसको मरते दम तक अंजाम देता रहूंगा और उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे एक या 2 घंटे ही गुजरे थे कि अचानक फ़्रीजर रूम में खट खट की आवाज हुई दरवाजा खुला चौकीदार भागता हुआ आया उस आदमी को उठाकर बाहर निकाला और गर्म हीटर के पास ले गया उसकी हालत कुछ देर बाद बेहतर हुई तो उसने चौकीदार से पूछा आप अंदर कैसे आए चौकीदार बोला कि जनाब मैं 20 साल से यहां काम कर रहा हूं इस कारखाने में काम करते हुए हर रोज सैकड़ों मजदूर और ऑफिसर कारखाने में आते जाते हैं मैं देखता हूं लेकिन आप उन चंद अफ़राद में से हो जो जब भी कारखाने में दाखिल होते हो तो मुझसे हंस कर सलाम करते हो और हालचाल पूछते हो और निकलते हुए आपका खुदा हाफिज कहना मेरी सारे दिन की थकावट दूर कर देता है

जबकि अक्सर लोग मेरे पास से यूं गुजर जाते हैं कि जैसे मैं हूं ही नहीं जब कि आप वह हो जिसके नजदीक मेरा भी कोई वजूद है आज हर दिनों की तरह मैंने आपका सलाम तो सुना लेकिन खुदा हाफिज कहने के लिए मुन्तजिर रहा जब ज्यादा देर हो गई तो मैं आपको तलाश करने चल पड़ा कि कहीं आप किसी मुश्किल में गिरफ्तार ना हो गए हो वह आदमी हैरान हो गया कि किसी को सलाम करने और खुदा हाफिज कहने जैसे छोटे काम की वजह से आज उसकी जान बच गई।

नईम अख्तर
(http://www.fikaremillat.com/2017/01/fem.html)

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>