Omg: ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर लागए इतने गंभीर आरोप, मचा हंगामा

Jul 22, 2017
Omg: ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर लागए इतने गंभीर आरोप, मचा हंगामा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर तीखा हमला बोलते हुए शुक्रवार को आरोप लगाया कि भाजपा कई राज्यों में भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई है और सभी मोर्चो पर असफल साबित हुई है। ममता ने भाजपा को अगले आम चुनाव में सत्ता से बेदखल करने का संकल्प लिया। ममता ने यह भी संकेत दिया कि भगवा पार्टी के खिलाफ उनकी पार्टी सभी विपक्षी ताकतों के साथ खड़ी होने को तैयार है। तृणमूल की वार्षिक शहीद रैली को संबोधित करते हुए ममता ने पूरे भाषण में भाजपा पर हमला किया, जबकि राज्य में अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी वाम मोर्चा पर उन्होंने कुछ ही शब्द कहे और राज्य में मुख्य विपक्ष कांग्रेस पर वह बिल्कुल चुप रहीं।

ममता ने भाजपा की ऊंची उम्मीदों के विपरीत कहा कि 2019 का आम चुनाव भाजपा के लिए आसान नहीं होगा।

अपने लंबे भाषण में ममता ने कहा, “ध्यान रखिए मोदी बाबू, आपको 30 फीसदी वोट भी नहीं मिलेंगे। जो लोग यह सोच रहे हैं कि 2019 का चुनाव आसान होगा और जीत उनकी जेब में है, वे भ्रम में हैं।”

राष्ट्रपति उम्मीदवार मीरा कुमार को 18 विपक्षी दलों के समर्थन के बाद भी भाजपा से हार का सामना करना पड़ा। इस पर ममता ने कहा कि मीरा कुमार का प्रदर्शन अच्छा रहा। उन्होंने कहा कि मीरा कुमार को 35 फीसदी वोट मिले, जो हमारे पक्ष में बढ़त को दिखाता है। आने वाले उपराष्ट्रपति चुनाव में जनता दल (यू) व बीजू जनता दल (बीजद) ने विपक्षी गुट में शामिल होने की बात कही है।

ये भी पढ़ें :-  वर्ष 2018 में अयोध्या में आयोध्या राममंदिर का निर्माण प्रारम्भ हो जाएगा: साक्षी महाराज

ममता ने कहा कि विपक्षी एकता आने वाले भविष्य में बढ़ेगी और पार्टियां अपने इलाकों में 2019 के चुनाव में भाजपा को प्रभावित करेंगी। ममता ने कहा कि वह मानती हैं कि 2018 में ही चुनाव हो सकते हैं।

ममता ने कहा कि उनकी पार्टी भाजपा के खिलाफ लड़ाई में शामिल होने की इच्छा रखने वाली हर पार्टी के साथ खड़ी होगी। इस संदर्भ में उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल और राजद प्रमुख लालू प्रसाद, बीजद प्रमुख नवीन पटनायक और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला का नाम लिया।

ममता ने कहा कि उनकी पार्टी ‘भाजपा मुक्त भारत’ नारे के साथ तीन सप्ताह लंबे आंदोलन की शुरुआत करेगी। यह आंदोलन नौ अगस्त को शुरू होगा और 30 अगस्त तक चलेगा। उन्होंने कहा, “मैं अपने सभी मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और ब्लॉक स्तर के नेताओं से कार्यक्रम में भाग लेने का आग्रह करती हूं।”

ममता ने कहा कि वह कार्यक्रम की शुरुआत और समाप्ति के मौके पर मौजूद रहेंगी।

उन्होंने भाजपा पर कई राज्यों में बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाया, और दावा किया कि केंद्रीय एजेंसियां पूरी तरह घोटालों पर चुप्पी साधे हुए हैं।

ममता ने धमकी दी कि यदि शारदा और नारदा मामलों में सीबीआई व अन्य केंद्रीय एजेंसियां सही तरीके से जांच आगे नहीं बढ़ती हैं, तो वह हजारों करोड़ रुपये के मानहानि का मामला दर्ज कराएंगी।

ये भी पढ़ें :-  उर्दू पूरे देश की ज़बान है, लेकिन राजनीतिकरण ने इसे सिर्फ़ मुसलमानों से जोड़ दिया: हामिद अंसारी

ममता ने कहा, “राजस्थान में हजारों करोड़ रुपये का घोटाला चल रहा है, लेकिन सीबीआई कहां है? क्या वे सो रहे हैं? कर्नाटक में भाजपा के मित्र रेड्डी बंधुओं की संलिप्तता वाले घोटालों का क्या परिणाम निकला?”

शहर के मध्य आयोजित तृणमूल की विशाल रैली में ममता ने कहा, “मध्य प्रदेश में व्यापमं घोटाले में पहले ही कई लोग मारे जा चुके हैं। सीबीआई कहां है? गुजरात में 20,000 करोड़ रुपये का पेट्रोलियम घोटाला चल रहा है। सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और आयकर जैसी सरकारी एजेंसियां कहां हैं?”

तृणमूल प्रमुख ने कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा उनकी पार्टी को चुप कराने की कोशिश कर रही है, क्योंकि वह अपने विरोध प्रदर्शनों के मामले में सर्वाधिक मुखर रही है।

उन्होंने कहा, “क्या हमें आप से चरित्र प्रमाण पत्र लेना है कि हम अच्छे हैं या नहीं? हम आपके चरित्र प्रमाण पत्र को खारिज करते हैं। हमें सिर्फ जनता से चरित्र प्रमाण पत्र चाहिए।”

तृणमूल प्रमुख ने कहा कि देश भर में जीएसटी या नोटबंदी की खामियों के बारे में जो बोल रहा है, उसके खिलाफ सीबीआई का इस्तेमाल हो रहा है।

ममता ने कहा कि भाजपा लोगों को धमकी दे रही है कि जो उसके साथ नहीं आ जाता, उसके खिलाफ वह सीबीआई का इस्तेमाल करेगी और शारदा चिटफंड घोटाले और नारदा स्टिंग फूटेज जैसे मामलों में फंसा देगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बगैर नाम लिए ममता ने कहा कि बरदा (बड़ा भाई) की 2019 के संसदीय चुनाव में सरकार से छुट्टी हो जाएगी।

ये भी पढ़ें :-  स्वतंत्रता दिवस के जश्न पर महाराष्ट्र के किसानों पर बरसे डंडे

उन्होंने यह अनुमान भी जाहिर किया कि संसदीय चुनाव अगले साल के प्रारंभ में भी हो सकते हैं।

उन्होंने कहा, “वे अगले साल संसदीय चुनाव करा सकते हैं। मैं नहीं जानती। मैं ऐसा ही कुछ सुन रही हूं।”

उन्होंने कहा, “हमारा कहना है कि शारदा और नारदा को आगे बढ़ाइए बरदा को 2019 में जाना है। बरदा को देश की सत्ता से बाहर करना होगा। यह एक चुनौती है। यह शहीद दिवस पर चुनौती है।”

ममता ने भाजपा पर कई क्षेत्रों में राष्ट्र की वृद्धि रोकने का आरोप लगाया और अर्थव्यवस्था को नोटबंदी व वस्तु एवं सेवा कर से पटरी से उतारने की बात कही।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने इस तरह के फैसलों से लाखों व करोड़ों रुपये लूटे हैं।

उन्होंने कहा कि कई क्षेत्रों में व्यापार खत्म हो गया है, बुरी तरह से गिर गया है। भारतीय अर्थव्यवस्था चौपट हुई है।

ममता ने भाजपा की विदेश नीति पर हमला किया। उन्होंने कहा कि पड़ोसी देशों के साथ रिश्ते खराब हुए हैं।

ममता ने कहा, “आपातकाल से खराब हालात देश में है। दलित, अल्पसंख्यक यहां तक कि हिंदू अपने अधिकारों को लेकर सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं।”

ममता ने कहा कि बंगाल के अलावा दिल्ली तक में कोई सुरक्षित नहीं है।

उन्होंने कहा, “यहां तक कि नोबेल विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन भी सुरक्षित नहीं हैं।”

उन्होंने कहा कि भाजपा और वाम उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>