नौजवानों को अब भी सिखाना पड़ता है ‘भारत माता की जय’ बोलना

Mar 03, 2016

जेएनयू के देशद्रोह विवाद के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भावगत ने चुप्पी तोड़ते कहा कि आजकल देश में ‘भारत माता की जय’ बोलने के लिए लोगों को सिखाना पड़ता है.

भागवत ने कहा है कि ऐसा नहीं बोलने वालों की संख्या ज्यादा है. उनका कहना था कि यह बताने की जरूरत नहीं होनी च‍ाहिए, यह स्वा‍भाविक होना चाहिए. क्योंकि देश में ऐसे लोगों
की कोई कमी नहीं है जो यह कहते हैं कि ऐसा नहीं कहना चाहिए. ऐसे लोग हर जगह दिखाई भी देते हैं.

जेएनयू विवाद पर अब तक भागवत की ओर से कोई बयान नहीं आया था. जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया की गिरफ्तारी से भड़के कई छात्र इसे लेकर संघ को निशाना बनाते रहे हैं. कई छात्रों ने इसे संघ का छिपा एजेंडा करार दिया.

हालांकि, मोहन भावगत ने जब ये बातें कहीं तो जेएनयू का नाम नहीं लिया. मोहन भागवत ने ये बातें सिंधुतई सपकल के सम्मान समरोह के दौरान कही. जेएनयू-कन्हैया विवाद को लेकर विपक्ष पहले ही मोदी सरकार पर हमलावर है. इसे लेकर संसद से सड़क तक संग्राम छिड़ा हुआ है.ऐसे में भागवत का ये बयान आग में घी का काम कर सकता है.

गौरतलब है कि बीते महीने जेएनयू कैंपस में कुछ छात्रों पर देश विरोधी नारे लगाने का आरोप लगा, इस आरोप में जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित उमर खालिद और अनिर्बन को गिरफ्तार किया गया है. कन्हैया को जमानत मिल गई है.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>