अब मेघालय के मुख्यमंत्री ने बीफ बैन को लेकर लोगो से एकजुट होने के लिए कहा

Jun 03, 2017
अब मेघालय के मुख्यमंत्री ने बीफ बैन को लेकर लोगो से एकजुट होने के लिए कहा

मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने त्रिपुरा समकक्ष माणिक सरकार को पत्र लिखकर पशु व्यापार और पशुवध के लिए केंद्र सरकार के नए कानून के खिलाफ एकजुट होने का आग्रह किया। संगमा ने शुक्रवार रात लिखे अपने पत्र में कहा कि पशुओं के प्रति क्रूरता रोकथाम (पशुधन बाजार विनियमन) नियम 2017 राज्य सूची की सूची-2 की विषयसामग्री नियमित करने के राज्यों के अधिकारों का उल्लंघन है।

संगमा के मुताबिक, “केंद्र को पशु बाजारों के नियमों में बदलाव संबंधी प्रस्ताव से पहले राज्यों से इस संदर्भ में चर्चा करनी चाहिए थी।”

संगमा ने इस कदम को राज्यों के अधिकारों का पूर्ण उल्लंघन बताया जिसका सामूहिक रूप से विरोध किए जाने की जरूरत है।

ये भी पढ़ें :-  अमरनाथ यात्रा हमले में मदद के संदेह में पुलिसकर्मी गिरफ्तार

कांग्रेस नेता ने अपने पत्र में कहा, “राज्य सरकारों को इस तरह के कदम उठाने के लिए केंद्र सरकार को रोकना चाहिए, क्योंकि इस तरह के कदम देश के संघीय ढांचे को कमजोर करते हैं।”

उन्होंने सहकारी संघवाद को बढ़ावा देने की बात भी कही।

मेघालय की विपक्षी पार्टी नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) की भी इस कदम पर अपनी सहयोगी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से अलग राय है और उसने इस फैसले को वापस लिए जाने की मांग की है।

इस बीच, लोकसभा में एनपीपी के एकमात्र सांसद कॉनराड के. संगमा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले में हस्तक्षेप करने और पर्यावरण मंत्रालय को निर्देश देने का अनुरोध किया है कि वे लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए इस नए नियम को अधिसूचित नहीं करे।

ये भी पढ़ें :-  गोरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या करने वालों को, भाजपा का समर्थन मिल रहा है: गुलाम नबी

कॉनराड ने मोदी को लिखे खुले पत्र में कहा है कि पशु व्यापार पर प्रतिबंध लगाने वाले नए कानून से लाखों लोगों की विशेषकर कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों और संबंधित उद्योगों के सामाजिक-सांस्कृतिक और आर्थिक परिवेश पर प्रभाव पड़ेगा।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>