NGT के द्वारा लगाये गए जुर्माने के खिलाफ अपील करेंगे श्री श्री रविशंकर

Mar 10, 2016

दिल्ली में यमुना किनारे आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के तीन-दिवसीय विश्व सांस्कृतिक कार्यक्रम को राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने सशर्त मंजूरी दे दी है जिसके खिलाफ श्री श्री अपील करेंगे.

यमुना नदी के किनारे होने वाले श्री श्री रविशंकर के कार्यक्रम वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल को हरी झंडी दिखाते हुए एनजीटी ने 5 करोड़ का जुर्माना भी लगाया था. अब श्री श्री रविशंकर ने जुर्माने को देने से मना कर दिया है और कहा है कि मैं इस फैसले पर अपील करूंगा. श्री श्री रविशंकर ने ट्वीट करके ये बातें कहीं.

हम इस निर्णय से संतुष्ट नहीं हैं.I हम अपील करेंगे. सत्यमेव जयते!

बुधवार को एनजीटी ने विवादों के बावजूद यमुना नदी के बाढ क्षेत्र में श्री श्री रविशंकर के आर्ट आफ लिविंग के शुक्रवार से आयोजित होने वाले तीन दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम को हरी झंडी दे दी और आयोजन पर रोक लगाने में यह कहते हुए असमर्थता जताई कि इस स्तर पर इसे रोका नहीं जा सकता. पूरी योजना नहीं बताने पर फांउडेशन को आडे हाथ लेते हुए अधिकरण ने एओएल पर पर्यावरण क्षतिपूर्ति के तौर पर पांच करोड रुपये का जुर्माना भी लगाया. अधिकरण ने इसमें डीडीए और पर्यावरण मंत्रालय की भूमिका पर भी सवाल खडे किये.

इससे पहले, उन्होंने दो और ट्वीट कर कार्यक्रम से दिल्ली में जन्नत उतारने का दावा किया था. दिल से हम ने दिल्ली वालों से कहा, यमुना के किनारे थोड़ी सी ज़मीन दो, झाड़ू लगाएँगे,जादू दिखाएँगे, दुनिया को बुलाएँगे, जन्नत उतारेंगे.

कुछ लोगों ने कहा ये ज़ुल्म हैं, आप को जुर्माना करेंगे. हम ने हँस के कहा, हम जुनून हैं उसके, जिसके आप हो!

कार्यक्रम के आयोजन के खिलाफ राष्ट्रीय हरित न्यायाधीकरण (एनजीटी) में याचिका दाखिल की गई थी. बुधवार को याचिका कि सुनवाई करते हुए एनजीटी ने कार्यक्रम को मंजूरी देते हुए कुछ शर्तें भी लगाई थी. शर्तों में एनजीटी ने ऑर्ट ऑफ लिविंग फॉउंडेशन पर पांच करोड़ रुपए का जुर्माना पर्यावरण क्षति पूर्ति के तौर पर लगाया था.

एनजीटी ने कहा था कि यमुना के जल ग्रहण क्षेत्र में इस तरह के आयोजन से नदी की पारिस्थितिकी को बहुत नुकसान पहुंचेगा ऐसे में इसकी जिम्मेदारी फाउंडेशन को ही वहन करनी होगी. इसके साथ ही उसने इस मामले में गैर जिम्मेदार रवैया अपनाने के लिए डीडीए पर पांच लाख रुपए और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर एक लाख का जुर्माना लगाने का आदेश भी सुनाया.

इससे पहले, 11 मार्च से शुरू हो रहे तीन दिवसीय इस कार्यक्रम को लेकर बुधवार को राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ. सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी ने पूछा कि श्री श्री रविशंकर के इस निजी कार्यक्रम में सेना क्यूं मदद कर रही है. इस प्रश्न को लेकर ही सदन में हंगामा हुआ.

प्रश्न का जवाब देते हुए संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि एनजीटी मामले की सुनवाई कर रहा है. उन्होंने आगे कहा कि श्री श्री रविशंकर पर्यावरण की रक्षा के प्रति प्रतिबद्ध हैं.

उल्लेखनीय है कि यमुना किनारे होने वाले इस कार्यक्रम के लिए सेना पुल बना रही है और इस मामले को लेकर भी विवाद है. बीजेपी के करीबी होने का मिल रहा इनाम वहीं दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने श्री श्री रविशंकर द्वारा आयोजित विश्व सांस्कृतिक कार्यक्रम को लेकर बीजेपी पर आरोप लगाया कि श्री श्री रविशंकर ने लोकसभा चुनाव में बीजेपी का साथ दिया था, इसलिए इनाम के तौर पर यमुना के किनारे यह कार्यक्रम आयोजित कराया जा रहा है. माकन ने कहा कि इससे यमुना पर विपरीत असर पड़ेगा.

दिल्ली में यमुना नदी के तट पर 11 से 13 मार्च तक वर्ल्ड कल्चर फ़ेस्टिवल आयोजित किया जा रहा है जिसमें कई देशों से हज़ारों लोगों के शामिल होने की उम्मीद है. इस कार्यक्रम का आयोजन श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा किया जा रहा है.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>