नेपाल: मधेसी आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों को मिलेंगे 10-10 लाख रूपए

Aug 06, 2016

माओवादी प्रमुख प्रचंड की अगुवाई वाली नेपाल की नई सरकार ने फैसला किया कि नए संविधान के मुद्दे पर मधेसियों की ओर से किए गए विरोध-प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों के परिजन को मुआवजे के तौर पर 10-10 लाख रूपए दिए जाएंगे.

माओवादी प्रमुख पुष्प कमल दहाल ‘प्रचंड’ के दूसरी बार प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने के एक दिन बाद शुक्रवार को हुई नई सरकार की पहली कैबिनेट बैठक में यह फैसला किया गया.
नए संविधान के लागू होने के बाद पिछले साल दक्षिणी नेपाल के जिलों में छह महीने तक चले विरोध-प्रदर्शनों के दौरान कम से कम 50 लोग मारे गए थे.
विरोध-प्रदर्शनों में मारे गए लोगों के परिजन को 10-10 लाख रूपए मुआवजे के तौर पर देने का फैसला किया गया. कैबिनेट ने प्रदर्शन में जख्मी हुए लोगों को नि:शुल्क इलाज की सुविधा मुहैया कराने का भी फैसला किया.
प्रदर्शनों के दौरान गिरफ्तार किए गए लोगों को तत्काल रिहा करने का भी फैसला किया गया.
संसद में प्रधानमंत्री चुनने से पहले मधेसियों और नेपाली कांग्रेस एवं सीपीएन-माओवादी सेंटर के सत्ताधारी गठबंधन के बीच हुए करार के तहत ये फैसले किए गए.
नए संविधान के कुछ प्रावधानों के विरोध के लिए मधेसी पार्टियों ने छह महीने तक चले प्रदर्शनों की अगुवाई की थी.
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>