नवाज शरीफ की पार्टी के नेताओं के घर से मिले अवैध हथियारों का जखीरा, एक्‍शन लेने के बजाय पुलिस को मांगनी पड़ी माफ़ी

Oct 07, 2016
नवाज शरीफ की पार्टी के नेताओं के घर से मिले अवैध हथियारों का जखीरा, एक्‍शन लेने के बजाय पुलिस को मांगनी पड़ी माफ़ी

पाकिस्तान के फैसलाबाद में तक़रीबन एक महीने पहले नवाज शरीफ की पार्टी के नेताओं के घर से अवैध हथियारों का जखीरा मिलने के बाद जिले में चल रहे पुलिस सर्च आॅपरेशन को रोक दिया गया है। इन नेताओं के खिलाफ पुलिस ने अभी तक कोई आपराधिक मुकदमा भी नहीं दर्ज किया है। 11 सितंबर को पुलिस ने पीएमएलएन के तीन नेताओं राणा इसरार, मोहसीन सलीम और परवेज कमोका के यहां छापा मारा था। ये तीनों नेता यूनियन काउंसिल के सदस्य हैं। पुलिस ने अपनी छापेमारी में तीनों नेताओं के घरों से अवैध हथियार भी बरामद किए थे। इनके यहाँ से प्रतिबंधित क्लाशनिकोव बंदूक भी मिली थी।

ये भी पढ़ें :-  आप्रवासियों को निकालने के लिए ट्रंप का नया निर्देश

इस मामले में पुलिस ने अभी तक किसी के खिलाफ भी कोई मामला दर्ज करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। घर से अवैध हथियार बरामद होने के बावजूद इन नेताओ ने पुलिस की ही आलोचना की है। राणा इसरार और मोहसीन सलीम ने तो छापेमारी में उनके घर से अवैध हथियार बरामद किए जाने के बाद मीडिया के सामने खुलेआम पुलिस को धमकी दे डाली और यूनियन काउंसिल के पद से इस्तीफे की पेशकश कर दी। इस मामले में पार्टी सांसदों के चुप्पी साधने पर भी इन्होंने उनकी तीखी आलोचना की थी।

ऊपर से दबाव के चलते फैसलाबाद पुलिस ने इन नेताओं के साथ मीटिंग कर उनके घर में हुई छापेमारी में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दे दिया। हालांकि, पुलिस ने यूनियन काउंसिल के तीन और सदस्यों आरिफ, बिलाल और मुद्दसर के खिलाफ अवैध हथियार रखने के लिए केस दर्ज किया है। तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता फारुख हबीब ने कहा पुलिस के साथ ये कैसा मज़ाक है कि पर्याप्त सबूह होने के बावजूद पुलिस को खुद गुनहगारों से माफी मांगनी पड़ रही है।

ये भी पढ़ें :-  किम जोंग-नाम की हत्या बेहद खतरनाक रसायन से की गई

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected