‘2 वर्ष के दौरान RSS के स्कूलों में हुई मुस्लिम बच्चों की संख्या में 30% की वृद्धि’

Jun 20, 2016
राष्ट्रीय स्वयंसेवक ने दावा किया है कि मोदी सरकार बनने के बाद यूपी में RSS द्वारा संचालित स्कूलों में मुस्लिम छात्रों की संख्या में 30% की वृद्धि हुई है।

इलाहाबाद। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का दावा है कि उत्तर प्रदेश में उसके 1,200 स्कूलों में लगभग 7,000 मुस्लिम छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, पिछले दो वर्षों के दौरान जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है तब से उसके स्कूलों में मुस्लिम छात्रों की संख्या में 30 फीसदी की बढ़ोत्तरी देखी गई है।

आरएसएस जिसे अपनी हिंदुत्ववादी सोच के लिए जाना जाता है, ने दावा किया है कि ये छात्र संघ के सभी नियमों- ‘श्लोकों’ का पाठ और ‘भोजन मंत्रों’ का पाठ करते हैं और ये छात्र पढ़ाई व खेलकूद में भी अच्छे हैं। इनमें से अधिकतर छात्र ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में अध्ययनरत हैं।

सरस्वती शिशु मंदिर और सरस्वती विद्या मंदिर का दावा है कि मुस्लिम लड़के और लड़कियों ने अपने-अपने स्कूलों में खेल, सांस्कृतिक गतिविधियों तथा पढ़ाई में भी श्रेष्ठतम स्थान हासिल किया है। इन स्कूलों का प्रबंधन कार्य देख रहे विद्या भारती के स्टेट इंस्पेक्टर चिंतामणि सिंह ने बताया, " हमारे स्कूलों में से मोहम्मद आकिब, आफताब आलम, एजाज अहमद और मोहम्मद अकरम जैसे मुस्लिम छात्रों ने राष्ट्रीय खेल स्पर्धाओं तथा युवा राष्ट्रमंडल खेलों में मेडल जीते हैं।

आरएसएस का मानना है कि ये आंकड़े संगठन के खिलाफ किए गए दुष्प्रचार को खारिज करते हैं। इन स्कूलों में दिन की शुरुआत सूर्य नमस्कार और वंदेमातरम गाकर होती है। सिंह का कहना है कि मुस्लिम छात्र आम छात्रों की तरह ही एक-दूसरे से घुल-मिलकर रहते हैं। इन स्कूलों में 12वीं में 4,672 लड़के और 2,218 लड़कियां पढ़ाई कर रही हैं। विद्या भारती ने हाल ही में 8 मुस्लिम अध्यापकों की भी नियुक्ति की है।

सिंह ने बताया, "हमारे स्कूलों में दी जा रही शिक्षा की गुणवत्ता के कारण ही मुस्लिम अभिभावक यहां अपने बच्चों को भेज रहे हैं।" इसी महीने की शुरुआत में असम में आरएसएस द्वारा संचालित एक स्कूल के मुस्लिम छात्र ने प्रदेश की हाईस्कूल परीक्षा में टॉप किया था।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>