रेलवे के लिए प्रभु ने हाई स्पीड तकनीक की वकालत की

Sep 02, 2016
रेलवे के लिए प्रभु ने हाई स्पीड तकनीक की वकालत की
अल्ट्रा हाई स्पीड तकनीक के बारे में उन्होंने कहा कि भारतीय रेल मेक इन इंडिया के तहत इसे विकसित करना, लागू करना चाहता है।

नई दिल्ली, प्रेट्र । रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने तेज गति से ट्रेनों की आवाजाही पर बल दिया है। रेलमंत्री ने कहा कि लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए रेलवे अल्ट्रा हाई स्पीड हासिल करने के प्रयास में है।

रेलमंत्री ने शुक्रवार को 500 किलोमीटर प्रति घंटा और इससे ज्यादा गति सीमा पर संचालन के लिए अल्ट्रा हाई स्पीड तकनीक पर आयोजित वैश्विक सम्मेलन का उद्घाटन किया। प्रभु ने कहा, ‘रेलवे का सपना है कि देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक यात्रा करने में 12 घंटे से ज्यादा समय नहीं लगे। सभी रेलगाडि़यों की औसत गति को बढ़ाने का विचार है।’

अल्ट्रा हाई स्पीड तकनीक के बारे में उन्होंने कहा कि भारतीय रेल मेक इन इंडिया के तहत इसे विकसित करना, लागू करना चाहता है। इसका स्वदेशी इस्तेमाल करना और साथ ही यह निर्यात के लायक बनाना चाहता है।

उन्होंने कहा कि रेलवे में आधुनिकीकरण की गति धीमी है। यह पूरी तरह विकसित तकनीक पर निर्भर है और यही कारण है कि देश की जीवन रेखा कहलाने वाला भारतीय रेल अल्ट्रा हाई स्पीड तकनीक अपनाना चाहता है।

इस वैश्विक सम्मेलन में हाइपर लूप ट्रांसपोर्ट टेक्नोलॉजी, यूएसए, क्वाड्रालेव यूएसए, टाल्गो, स्पेन, आरटीआरआइ जापान, सिएमेन्स जर्मनी, क्नोर ब्रेम्स, जर्मनी, प्रोज स्विट्जरलैंड आदि हिस्सा ले रहे हैं।

पढ़ें-

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>