सनातन संस्था ने आरोपी से कहा था कि दाभोलकर पर करे ‘ध्यान केंद्रित’

Jun 13, 2016

पुणे (मिड-डे)। नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के मामले में पहली गिरफ्तारी होने के बाद सीबीआई को कुछ महत्वपूर्ण सबूत मिले हैं। इस मामले में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए गए हिंदू जनजागृति मंच के वीरेंद्र तावड़े के ईमेल से जांच अधिकारियों को पता चला है कि संस्था के एक वरिष्ठ सदस्य द्वारा तावड़े को यह निर्देश मिला था कि वह केवल "दाभोलकर पर ध्यान केंद्रित" करे।

जांच एजेंसी के एक सूत्र ने बताया कि तावड़े को गिरफ्तार करने के लिए केवल ये ही एकमात्र प्रासंगिक ईमेल नहीं था बल्कि और भी कई ईमेल थे। 46 साल के ईएनटी सर्जन वीरेंद्र तावड़े ईमेल के दवारा मरगांव धमाके के आरोपी सांग अकोलकर से भी संपर्क में था। अकोलकर का भी सनातन संस्था से संबंध रहा है। ये सभी ईमेल्स दाभोलकर की हत्या करने से पहले भेजे गए थे जो इस बात की ओर इशारा करते हैं कि संस्था के 5 या 6 लोग इस हत्या में शामिल थे।

एक सीबीआई अधिकारी ने बताया, "तावड़े और सनातन संस्था के एक वरिष्ठ सदस्य तथा अकोलर के बीच बातचीत वाली 18 ईमेल ऐसी थीं जिनमें दाभोलकर का जिक्र किया गया था। 2010 की तीन ईमेल तो और भी महत्वपूर्ण हैं जिनमें उन्होंने ये उल्लेख किया है कि संस्था में 6 साल काम करने के बाद तावड़े को पश्चिमी महाराष्ट्र का इन-चार्ज बनाया जा रहा है और उसे दाभोलकर पर ध्यान केंद्रति करने को कहा गया।"

अधिकारी ने बताया कि ये तीनों अपनी बातचीत को इनकोड करने के लिए संस्कृत में भी बातचीत करने की कोशिश करते थे। ईमेल की तारीख और समय से ऐसा लगता है कि ये हत्या की साजिश योजनाबद्ध तरीके से बना रहे थे। गौरतलब है कि तावड़े को डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की हत्या के मामले में साजिश रचने के आरोप में सीबीआई ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया था और इसके बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट ने तावड़े की सीबीआई हिरासत की अवधि 16 जून तक बढ़ा दी थी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>