उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सत्ता में बदलाव लाने की तैयारी में जुटा संघ

Aug 23, 2016
उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सत्ता में बदलाव लाने की तैयारी में जुटा संघ
यूपी में चुनाव की कमान पीछे से संभालने के लिए आरएसएस अपने को तैयार कर रहा है। इसको लेकर संघ प्रमुख ने बैठक भी की है।

आगरा (अंबुज उपाध्याय)। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड चुनाव में सत्ता बदलाव की नींव रखने को चुनाव की कमान पीछे से संघ संभालेगा। सोमवार को सरसंघचालक मोहन भागवत ने इसके संकेत दे दिए। दलित मुद्दे से चिंतित संघ प्रमुख ने समरसता पर भी पूरा जोर दिया। संगठनात्मक बैठकों में पूरी रणनीति पर मंथन किया गया।

वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है। इसीलिए संघ की उप्र, मेरठ और उत्तराखंड प्रांत के प्रांतीय पदाधिकारियों और गतिविधि के प्रमुखों के साथ बैठक को अहम माना जा रहा है। केंद्र सरकार के चुनाव से पहले किए वादे और दलित मामलों पर घिरी भाजपा को भी मिशन-2017 के लिए अपने तरकश में नए तीर ढूंढ़ रही है। वहीं उत्तर प्रदेश की सत्ता और उत्तराखंड में भाजपा को संघ ही संकट मोचन के रूप में दिखाई दे रहा है। सूत्रों के मुताबिक संघ प्रमुख के आगरा प्रवास के तीसरे दिन हुई उत्तराखंड, ब्रज एवं मेरठ प्रांत बैठक भी इसी पर केंद्रित रही।

सूत्रों के अनुसार संघ प्रमुख ने सभी पदाधिकारियों से कार्यो की समीक्षा के साथ अन्य गतिविधियों को बढ़ाने को कहा। प्रांतों की स्थिति और उनकी आवश्यकताओं के बारे में जानकारी ली। पदाधिकारियों से संघ की शाखाओं में संख्या पर विशेष ध्यान के साथ विस्तार के निर्देश दिए। इसी के साथ समरसता और समन्वय बनाने की बात कही। इशारांे में संघ प्रमुख ने ¨हदुत्व को जगाने और आगामी परिस्थितियों से निपटने के लिए तैयार रहने के निर्देश दिए। चुनावी लिहाज से जनता को दूसरे राजनीतिक दलों (भाजपा छोड़कर) के समर्थन के जोखिम समझाने की बात भी कही।

उन्होंने कहा, हमें हर मोर्चे और सहयोग के लिए तत्पर रहना होगा। समाज को विकृत रूप में जाने से बचाने के लिए बदलाव की जरूरत है। हमें उन परिस्थितियों को लाने के लिए जुटना होगा, जिसमें देश विरोधी ताकतें बलशाली न हो पाएं।

सोशल मीडिया का सही करें इस्तेमाल : भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का सोशल मीडिया के सही इस्तेमाल पर जोर है। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि सोशल मीडिया गलत नहीं है। जरूरत है, तो सही तरीके से इस्तेमाल की। शिक्षकों की भी जिम्मेदारी है कि वे छात्रों को इसका सही इस्तेमाल सिखाएं। सरसंघचालक मोहन भागवत ने सोमवार को शिक्षकों और छात्रों के साथ आयोजित बौद्धिक सत्र में ये बातें कहीं। उन्होंने मुक्त चिंतन सत्र में छात्रों के सवालों के जवाब भी दिए। संघ प्रमुख ने एक सवाल के जवाब में कहा कि स्किल और एजुकेशन दोनों जरूरी हैं। सिर्फ डिग्री रखने से बेरोजगारी की समस्या खड़ी हो जाएगी। संघ प्रमुख कहा कि युवाओं को प्रेरित करने का काम शिक्षकों के हाथ में है। शिक्षकों एवं शिक्षण संस्थाओं का दायित्व है कि वे युवाओं को सही दिशा-निर्देश दें और देश की उन्नति में सहयोग करें।

सवर्ण और अवर्ण में हों स्नेह संबंध

संघ प्रमुख ने अंतरजातीय विवाह का उदाहरण देकर कहा कि कथित सवर्ण और अवर्ण व्यक्तियों एवं परिवारों के बीच मैत्री स्नेह संबंध बनने चाहिए। एक दूसरे के यहां आने-जाने से व्यवहार विकसित होगा। संघ की गतिविधियां का उद्देश्य परिवर्तन लाना है। महाराष्ट्र में प्रथम अंतरजातीय विवाह 1942 में हुआ था, जिस पर बाबा साहब अंबेडकर और तत्कालीन सरसंघचालक माधवराव गोलवलकर ने भी हर्षित होकर मंगल कामनाएं दी थीं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>