राजनाथ ने कहा, आपातकाल का दंड भुगत रही है कांग्रेस

Jun 26, 2016
25 जून 1975 को आपातकाल की घटना को गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कांग्रेस पार्टी के सिमटते जनाधार के पीछे की मुख्य वजह बताई।

नई दिल्ली (प्रेट्र)। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा देश पर थोपे गए आपातकाल की 41वीं वर्षगांठ के मौके पर भाजपा नेताओं ने कांग्रेस पर निशाना साधा। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि 25 जून 1975 को आपातकाल थोपकर कांग्रेस ने ऐतिहासिक गलती की थी। उन्होंने पार्टी के सिमटते जनाधार के पीछे इसे महत्वपूर्ण कारण करार दिया।

भाजपा सांसद सुब्रह्माण्यम स्वामी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इंदिरा गांधी की राह पर चलने की तैयारी में थी। 2011-12 के दौरान वह भी हिंदू आतंकवाद को आधार बनाकर आपातकाल थोपने के प्रयास में थी। आपातकाल के कैदियों को श्रद्धांजलि देने के बाद गृह मंत्री ने कहा, ‘आपातकाल लागू कर कांग्रेस ने जो ऐतिहासिक भूल की थी उसी का खामियाजा उसका सिमटता जनाधार है।

इसके अन्य कारण भी हो सकते हैं लेकिन आपातकाल सबसे अहम कारण है और कांग्रेस उसकी कीमत चुका रही है।’ कई राज्यों में जिस कांग्रेस की सरकारें हुआ करती थी, आज वह मैदान से साफ हो चुकी है और चुने हुए पहाड़ी राज्यों में ही सिमट कर रह गई है।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि संघ (आरएसएस), पूर्ववर्ती राजनीतिक पार्टी जनसंघ और विपक्षी पार्टियों ने एक साथ मिलकर लड़ाई लड़ी। लोगों ने इस लड़ाई में साथ दिया।एक ट्वीट में उन्होंने कहा है, ’41 वर्ष पहले कांग्रेस ने आपातकाल की घोषणा की थी और तानाशाही लाई थी। इसके जरिए उसने लोकतंत्र को खत्म करने का प्रयास किया था।’

आपातकाल के दौरान जेल में बंद रहे जावड़ेकर ने कहा कि यरवदा जेल उस समय ‘राजनीतिक विश्वविद्यालय’ में तब्दील हो गया था।केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट किया है, ’25 जून 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल थोपा था। उस दिन के लिए कांग्रेस पश्चाताप करे और यह महसूस करे कि देश आम लोगों का है कांग्रेस का नहीं।’

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>