भारतीय शहरों में है गरीबी को पचाने की ताकत : पीएम मोदी

Jun 26, 2016
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ‘शहरों में ही गरीबी को पचाने की ताकत है। इसलिए शहरीकरण को संकट के रूप में नहीं बल्कि अवसर समझें।’

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। स्मार्ट सिटी के लिए पहली खेप में चुने गये 20 शहरों की प्रस्तावित परियोजनाओं को लांच करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ‘शहरों में ही गरीबी को पचाने की ताकत है। इसलिए शहरीकरण को संकट के रूप में नहीं बल्कि अवसर समझें।’ उन्होंने कहा स्मार्ट सिटी का स्वरुप कैसा हो, इसका फैसला वहां के लोग करें, दिल्ली में बैठकर इसका फैसला नहीं हो सकता है। स्मार्ट सिटी बीते हुए कल के अनुभव पर उज्ज्वल भविष्य का एक प्रयोग है।

प्रधानमंत्री मोदी पुणे में आयोजित समारोह के माध्यम से देश के 20 स्मार्ट शहरों के लिए प्रस्तावित 69 परियोजनाओं का शुभारंभ किया। शहरीकरण को अवसर बताते हुए मोदी ने कहा कि शहरों से गरीबों की आस होती है, जहां वह अपना रास्ता बना लेता है। हमे शहरों को यह साम‌र्थ्य देने की जरूरत है ताकि वह गरीबी को पचा (मिटा) सके और विकास के नये आयाम पैदा कर सके। हालांकि आर्थिक क्षेत्र के लोग इसे ग्रोथ सेंटर के रूप में देखते हैं। लेकिन यह एक अवसर है।

पढ़ेंः

शहरों की क्षमता को इमारतों और सड़कों की चौड़ाई से नहीं नापा जा सकता है। मोदी ने कहा ‘हर शहर की आत्मा और उसकी पहचान होती है। जयपुर में नाइट हेरिटेज वॉक की परियोजना शुरु की जा रही है। यानी जयपुर की जय जयकार रात में भी होती रहेगी। इस दौरान भी मोदी बनारस का जिक्र करना नहीं भूले। उन्होंने कहा, बनारस को उसकी धार्मिक विरासत के लिए तो जाना ही जाता है, लेकिन बनारस की साड़ी का पता हर महिला को होता है। इसी पहचान को 21वीं सदी में नई ऊर्जा देने की जरूरत है, ताकि शहर की आत्मा वही रहे और उसका कायाकल्प हो जाए। उन्होंने कहा कि व्यवस्थाएं गति चाहती हैं। प्रौद्योगिकी को सामूहिक सेवा का माध्यम बनाने की जरूरत पर प्रधानमंत्री ने बल दिया।

पुणे शहर की 14 परियोजनाओं समेत पहले चरण के 20 शहरों की 69 परियोजनाओं को भी प्रधानमंत्री मोदी ने हरी झंडी दिखाई। इस दौरान वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, उड़ीसा के मुख्यमंत्री बीजू पटनायक और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया भी जुड़ी।

स्वच्छ भारत मिशन का का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह देश के लोगों का सर्वप्रिय विषय बन गया है। पहले जहां सरकारी खजाने से अधिक धनराशि वाली परियोजनाओं को अच्छी कहा जाता थी, लेकिन पहली बार पीएम कुछ दे नहीं रहा है। वह केवल आइडिया दे रहा है। मोदी ने कहा ‘अब लोग कुछ पाना नहीं करना चाहते हैं।’ स्वच्छता पर मीडिया की प्रशंसा करते हुए कहा, कई अखबारों ने लोगों को जागृत किया है। स्वच्छता के लिए दबाव बनाया है।

पढ़ेंः

स्मार्ट सिटी सूची
पहले चरण में प्रतिस्पर्धा के आधार पर चयनित 20 शहरों की सूची

1-भुवनेश्वर
2-पुणे
3-जयपुर
4-सूरत
5-कोच्चि
6-अहमदाबाद
7-जबलपुर
7-विशाखापट्टनम
8-शोलापुर
9-धवनगिरी
11-इंदौर
12-नई दिल्ली (एनडीएमसी)
13-कोयंबटूर
14-काकीननाड़ा
15-बेलगाम
16-उदयपुर
17-गुवाहाटी
18-चेन्नई
19-लुधियाना
20-भोपाल

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>