गर्लफ्रेंड के सामने अपमानित करता था दोस्‍त, कर दी हत्‍या

Aug 03, 2016
लड़की बन दोस्‍त को पहले जाल में फंसाया और फिर एक रात उसकी हत्‍या कर दी।

मुंबई (मिड डे)। गर्लफ्रेंड के सामने लगातार दोस्त द्वारा अपमानित किए जाने से तंग आकर 22 वर्षीय युवक ने दोस्त को मारने का प्लान बना लिया। लेकिन उसने तुरंत उसे अंजाम नहीं दिया बल्कि उसके लिए पूरा प्लॉट बनाया। पहले अपने दोस्त से लड़की बन दोस्ती की और उसे फंसाने के लिए फुलप्रूफ जाल बिछाया लेकिन उसकी एक गलती ने पुलिस को सुराग दे दिया।

पुलिस ने हत्यारे के तौर पर ग्राफिक डिजायनर, अजय विश्वकर्मा (22) की पहचान की। उसका दोस्त जय प्रजापति (20) बारहवीं कक्षा का छात्र था जो उसी मुहल्ले में रहता था। हालांकि वे गहरे दोस्त थे, लेकिन अजय विश्वकर्मा इस बात से काफी दुखी था कि उसके गर्लफ्रेंड के सामने उसका मित्र जय प्रजापति उसे अपमानित करने का एक भी मौका नहीं गंवाता है। उसने बदला लेने का सोचा और एक महीने तक दोस्त को मौत के घाट उतारने के लिए प्लानिंग की।

ये भी पढ़ें :-  निर्वाचन आयोग 2019 तक 16,15,000 वीवीपैट मशीनें खरीदेगा

चूंकि जय उसकी गर्लफ्रेंड के सामने उसे अपमानित करता था इसलिए अजय ने भी ऐसा ही करने का निर्णय लिया। नैंसी दीक्षित नाम से एक लड़की की तरह वह जय को फोन और मैसेज करने लगा। यह प्रक्रिया एक माह तक चली जब तक कि जय पूरी तरह लड़की के गिरफ्त में नहीं आ गया।

28 जुलाई को नैंसी बने अजय ने 9 फोन और तीन मैसेज किए जिसमें उसे बीच रात को नईगांव में एक एकांत जगह पर मिलने बुलाया । अजय पहले भी जय को उस जगह पर एक बार ले जा चुका था और कहा था कि नैंसी यहीं रहती है। उसने ऐसा इसलिए किया कि समय आने पर जय उस जगह बिना किसी की मदद के ही पहुंच जाए। मामले से बिल्कुल अनभिज्ञ जय नैंसी से मिलने उस जगह पर पहुंच गया लेकिन वहां इंतजार कर रहे अजय व उसके साथियों ने जय को बुरी तरह पीटा और उसके मर जाने के बाद वहीं फेंक दिया।

ये भी पढ़ें :-  उप्र : छात्र अपहरण के आरोपियों को 10-10 साल की जेल

जब जय घर नहीं लौटा तो उसके पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करायी। तब तक पुलिस को गुमराह करने के लिए अजय ने दूसरा प्लान तैयार कर लिया था। 31 जुलाई को जय के पिता को उसने किडनैपर के तौर पर फोन किया और 15 लाख रुपये की मांग की।

लेकिप उसने यहीं गलती कर दी। उसने जय के फोन से कॉल किया था, पुलिस ने आसानी से कॉल डिटले रिकार्ड निकाल लिया। कॉल लॉग से पुलिस ने पता लगाया कि मौत से पहले एक ऐसे नंबर से जय को अनेकों कॉल और मैसेज आए थे जो अजय के नाम पर रजिस्टर्ड थे। इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद भी अजय ने गुमराह करने की बहुत कोशिश की। उसने कहा कि उसकी आंखों के सामने जय का अपहरण हुआ लेकिन पुलिस ने उसकी कहानी नहीं सुनी क्योंकि उन्हेांने अजय के घर से कई सिम कार्ड बरामद किए थे।

ये भी पढ़ें :-  प्रभु ने हमसफर एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी

अजय के साथ उसके साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया। वैसे तो उसने खुद को बचाने की भरपूर कोशिश की लेकिन पुलिस के पास पर्याप्त सबूतों के आगे वह लाचार हो गया और अंतत: हत्या का अपराध कबूल कर लिया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>