देशभर में छाया मानसून, मध्यप्रदेश में बाढ़ का कहर

Jul 14, 2016
मौसम विभाग ने कहा कि साउथवेस्ट मानसून ने पूरे देश को कवर कर लिया है जबकि सामान्य तौर पर मानसून 15 जुलाई तक पूरे देश को कवर करता है।

नई दिल्ली। मानसून ने अपने सामान्य समय से 2 दिन पहले ही पूरे देश को कवर कर लिया है। मौसम विभाग ने कहा कि साउथवेस्ट मानसून ने पूरे देश को कवर कर लिया है जबकि सामान्य तौर पर मानसून 15 जुलाई तक पूरे देश को कवर करता है।

साउथवेस्ट मानसून उत्तर अरब सागर के बचे हिस्सों, कच्छ और पश्चिमी राजस्थान की ओर बढ़ रहा है।मध्यप्रदेश में बाढ़ के बाद राजस्थान के कुछ हिस्सों में जमकर बारिश हो रही है। महाराष्ट्र अौर राजधानी दिल्ली में भी बारिश शुरु हो गई है।

राजस्थान में करीब छह स्थानों पर 13 सेंटीमीटर से अधिक वर्षा हुई है। प्राप्त किया। राजधानी दिल्ली में पारा स्थिर है लेकिन नमी का स्तर 63-91 फीसद के बीच दर्ज की गई है। मौसम विभाग केंद्र फदरजंग से मिली अनुसार अाज सुबह 5:30 से 8:30 के बीच 16.3 एमएम वर्षा दर्ज की गई।

असम में बाढ़ की स्थिति बाढ़ की स्थिति बनीं हुई है। मारा लखीमपुर, गोलाघाट, मोरीगांव, बारपेटा, विश्वनाथ और जोरहाट जिलों में 1.11 लाख से अधिक लोग प्रभावित हैं।

उत्तराखंड में मौसम विभाग ने उत्तरकाशी, देहरादून, रुद्रप्रयाग, चमोली, पिथौरागढ़, बागेश्वर, अल्मोड़ा, नैनीताल और चंपावत जिले में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। यहां चार धाम यात्रियों को भी अलर्ट किया गया है।राजस्थान के डूंगरपुर जिले के गलियाकोट शहर के 24 घंटे के दौरान 20 सेमी बारिश दर्ज की गई। जबकि डूंगरपुर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़, राजसमंद में करीब 13 सेमी बारिश दर्ज की गई।
पंजाब और हरियाणा में 10 दिन पहले मानसून की शुरुअात हो गई थी। संभावना जताई जा रही है कि अगले दो-तीन दिनों में अच्छी बारिश की उम्मीद है।

जुलाई में सामान्य से 4 फीसदी ज्यादा बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक 1 से 12 जुलाई तक देशभर में 280.4 मिलीमीटर बारिश हुई जो सामान्य से 4 फीसदी ज्यादा है। साउथवेस्ट मानसून 8 जून को केरल तट पर पहुंचा था। जो 1 जून की सामान्य तारीख से 1 हफ्ता लेट है। पिछले साल मानसून 5 जून को केरल पहुंच गया गया था। जबकि मानसून ने पूरे देश को 26 जून तक कवर कर लिया था।

सामान्य से ज्यादा रहेगी बारिश

आईएमडी ने लॉन्ग पीरियड के लिए मानसून बारिश सामान्य से 6 फीसदी ज्यादा रहने का अनुमान लगाया है। जुलाई में मानसून बारिश सामान्य से 7 फीसदी ज्यादा और अगस्त में 4 फीसदी ज्यादा होने का अनुमान है। मानसून सीजन के चार महीनों में देश की वार्षिक जरूरत की 80 फीसदी बारिश होती है। देश की अधिकतर कृषि मानसून पर ही निर्भर रहती है। देश के दो-तिहाई हिस्से में सिचांई नहीं है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>