इस गांव में शौक नहीं मजबूरी है दूसरी शादी, कारण जान रह जाएंगे हैरान

Jul 21, 2016
शौक नहीं बल्‍कि परंपरा के कारण दूसरी शादी के लिए मजबूर हैं इस गांव के लोग क्‍योंकि यहां पहली पत्‍नी से संतान की प्राप्‍ति नहीं होती है।

बाड़मेड़। राजस्थान के एक गांव में अजीबोगरीब परंपरा है, मन नहीं होने पर भी यहां के हर पुरुष को दो शादियां करनी होती है। और इसके पीछे का कारण जान हैरान रह जाएंगे आप।

भारत-पाक सीमा के निकट बारमेड़ जिले का छोटा सा गांव डेरासर है जहां 600 से अधिक की जनसंख्या नहीं है। लेकिन यहां हर पुरुष की दो पत्नियां हैं। इसके पीछे कारण यह नहीं की इन्हें दो महिलाओं से शादी करने का शौक है बल्कि यह यहां की अजीबो-गरीब परंपरा है।

इंडिया टुडे के अनुसार, डेरासर में करीब 70 मुस्लिम परिवार रहते हैं। इस्लाम में एक से अधिक शादियों की अनुमति है लेकिन इस गांव में दो बार शादी, धर्म नहीं बल्कि लोगों की पारंपरिक सोच के कारण होती है।

इस अजीबो गरीब परंपरा के अनुसार, वहां के लोगों के बीच यह मान्यता है कि यदि आप केवल एक शादी करते हैं तो आपको पहली पत्नी से संतान का सुख नहीं मिलेगा। कई वर्षों तक यहां ऐसा ही हुआ है और इसे देखा गया है, कि दूसरी शादी होते ही संतान की प्राप्ति हो जाती थी।

इस गांव के लोगों ने आधी उम्र तक पहली पत्नी से संतान होने का इंतजार किया। ग्रामीण इस तथ्य के गवाह हैं कि दूसरी शादी होते ही बच्चे की प्राप्ति हो गयी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>