दुराचार पीडि़ता के साथ सेल्फी मामले में बढ़ी तकरार

Jul 03, 2016
दुराचार पीडि़ता के साथ सेल्फी मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग में बुलाए जाने को राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष ने बताया गलत है।

जागरण संवाददाता, जयपुर : दुष्कर्म पीड़िता के साथ सेल्फी लेने के मामले में राजस्थान महिला आयोग और राष्ट्रीय महिला आयोग के बीच तकरार बढ़ गई है। इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष व सेल्फी लेने वाली सदस्य को बुलाए जाने की बात सामने आ रही है।

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने न सिर्फ इस घटना को गलत बताया बल्कि यह भी कहा कि वह एक संवैधानिक पद पर हैं और इस तरह राष्ट्रीय महिला आयोग उन्हें कैसे बुला सकता है। थाने में पीडि़ता के साथ सेल्फी की फोटो वायरल होने के बाद राजस्थान महिला आयोग की सदस्य सौम्या गुर्जर से इस्तीफा मांग लिया गया था। इस मामले में सुमन शर्मा को भी दोषी बताया जा रहा है और उन पर भी त्यागपत्र देने का दबाव बना हुआ है।

बताया जा रहा है कि इन दोनों को चार जुलाई को राष्ट्रीय महिला आयोग में बुलाया गया है। उधर सुमन शर्मा का कहना है यह घटना वैसी नहीं है जैसी प्रचारित की जा रही है। हम जब पीडि़ता से मिलने गए तो वह बार-बार बयान बदल रही थी और उसके बयान नहीं हो पा रहे थे। इसी दौरान मेरी साथी सौम्या ने अपने फोन से एफआइआर को क्लिक किया।

इस पर पीडि़ता ने पूछा कि यह क्या है तो सौम्या उसे कैमरा चलाकर उसकी फोटो उसमें दिखाने लगीं। इसी दौरान सौम्या ने मुझे पुकारा तो मैंने उनसे कहा भी यह क्या कर रही हो इस समय। सेल्फी की तो बात ही नहीं थी दिमाग में। सुमन शर्मा ने कहा कि वैसे भी यह हमने सर्कुलेट नहीं की है, इसलिए सेल्फी जैसी कोई बात नहीं है।

बल्कि मैं तो उस व्यक्ति के खिलाफ साइबर क्राइम का मामला दर्ज कराऊंगी, जिसने हमारी बिना इजाजत के यह फोटो लिया और इसे सर्कुलेट भी किया। इस फोटो में पीडि़ता भी नजर आ रही है। ऐसी फोटो सर्कुलेट कैसे की जा सकती है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>