जानिए, FDI पॉलिसी में बदलाव के फैसले से आपको क्या होगा फायदा

Jun 21, 2016
सरकार ने कुछ ऐसे क्षेत्रों में एफडीआई की सीमा को बढ़ाया है जोकि सीधे-सीधे आम लोगों की जिंदगी से जुड़े हैं।

नई दिल्ली। सरकार ने सोमवार आर्थिक नीतियों में बड़ा बदलाव करते हुए सिविल एविएशन, सिंगल-ब्रांड रिटेल, डिफेन्स और फार्मा में एफडीआई पर बड़े फैसले लेते हुए कई क्षेत्रों में 100 फीसदी एफडीआई को मंजूरी दे दी है। इससे पहले नवंबर 2015 में भी FDI में कुछ सुधार किए गए थे और अब इसे विदेशी निवेशकों को प्रोत्साहित करने के दूसरे चरण के तौर पर देखा जा रहा है।

सबसे पहले हम आपको ये बताते हैं कि एफडीआई क्या है और आपकी जिंदगी से ये सीधे तौर पर कैसे जुड़ा हुआ है। FDI यानि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश या दूसरे यानी दूसरे देशों की कंपनियां और लोग हमारे देश के बाजारों में कितना पैसा लगा सकते हैं और उससे कितना कमा सकते हैं।

सरकार ने कुछ ऐसे क्षेत्रों में एफडीआई की सीमा को बढ़ाया है जोकि सीधे-सीधे आम लोगों की जिंदगी से जुड़े थे जैसे सिविल एविएशन में 100 फीसदी एफडीआई को मंजूरी मिल गई है। इससे एविएशन सैक्टर में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी जिससे ग्राहकों को कम कीमतों पर ज्यादा सुविधाएं मिलेगी। आपको बता देंकि कतर, सिंगापुर और तुर्की जैसे देशों की कंपनियां काफी समय से भारत के एविएशन सैक्टर में आना चाहती थी। इसके अलावा दुनिया के कई देशों जैसे मास्को या शंघाई से हमारे देश में सीधी उड़ान की सुविधा नहीं है जो अब शुरू होने की उम्मीद है।

सरकार ने ब्राडकॉस्टिंग सर्विस में भी 100 फीसदी एफडीआई को मजूंरी दे दी है यानि अब आप जो केबल नेटवर्क के लिए पैसे देते हैं वो कम हो जाएंगे क्योंकि बाजार में कई नई कंपनियां आएंगी जिससे प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और कम कीमत पर बेहतर सर्विस मिलेगी।

सिंगल ब्रांड रिटेल में भी 100 फीसदी एफडीआई को मंजूरी दी गई है इससे कई सिंगल ब्रांड बेचने वाली कंपनियां भारत आएंगी। बताया जा रहा है कि एप्पल भी भारत में रिटेल सेवा शुरू करना चाहता है।

सरकार ने पशुपालन क्षेत्र में भी 100 फीसदी एफडीआई लागू कर दिया है यानि अब मछली पालन, कुत्तों की ब्रीडिंग, क्रस्टेशियन, मधुमक्खी पालन के क्षेत्र में विदेशों से भी निवेश हो सकेगा। ये फैसला भारतीय किसानों को आने वाले दिनों में काफी लाभ पहुंचाएगा।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>